Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2023 · 1 min read

Change is hard at first, messy in the middle, gorgeous at th

Change is hard at first, messy in the middle, gorgeous at the end – Robin Sharma

Change is not a smooth or linear process, but rather one that is marked by challenges and uncertainty. At the beginning, change can be difficult and uncomfortable as we navigate uncharted territory and leave our comfort zones. In the middle, we might face obstacles, make mistakes, and experience chaos as we adapt and learn. However, as we persist and push through the difficulties, we eventually reach a point where the beauty and rewards of change become evident.

The end result reveals the growth, resilience, and strength that arise from embracing change and fully embracing its potential.

180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
मां!क्या यह जीवन है?
मां!क्या यह जीवन है?
Mohan Pandey
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
AJAY AMITABH SUMAN
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
शरद
शरद
Tarkeshwari 'sudhi'
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
जय लगन कुमार हैप्पी
अन्याय होता है तो
अन्याय होता है तो
Sonam Puneet Dubey
कलियुग में सतयुगी वचन लगभग अप्रासंगिक होते हैं।
कलियुग में सतयुगी वचन लगभग अप्रासंगिक होते हैं।
*प्रणय प्रभात*
The emotional me and my love
The emotional me and my love
Sukoon
घनाक्षरी छंद
घनाक्षरी छंद
Rajesh vyas
"कलम के लड़ाई"
Dr. Kishan tandon kranti
खोकर अपनों को यह जाना।
खोकर अपनों को यह जाना।
लक्ष्मी सिंह
" बीकानेरी रसगुल्ला "
Dr Meenu Poonia
पुस्तकें
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
---माँ---
---माँ---
Rituraj shivem verma
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
हिंदी
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बना रही थी संवेदनशील मुझे
बना रही थी संवेदनशील मुझे
Buddha Prakash
कमरछठ, हलषष्ठी
कमरछठ, हलषष्ठी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
DrLakshman Jha Parimal
*जिंदगी*
*जिंदगी*
नेताम आर सी
.........
.........
शेखर सिंह
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
नशा-ए-दौलत तेरा कब तक साथ निभाएगा,
नशा-ए-दौलत तेरा कब तक साथ निभाएगा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इंसानियत का एहसास
इंसानियत का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
*जानो तन में बस रहा, भीतर अद्भुत कौन (कुंडलिया)*
*जानो तन में बस रहा, भीतर अद्भुत कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...