Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

Bus tumme hi khona chahti hu mai

Bus tumme hi khona chahti hu mai
Aisi bhi kya kashish hai tumhari
Akho me,
Ki bus teri hi hona chahti hu mai

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
झूठे से प्रेम नहीं,
झूठे से प्रेम नहीं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
Paras Nath Jha
जिंदगी का सबूत
जिंदगी का सबूत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
Dr MusafiR BaithA
गरम समोसा खा रहा , पूरा हिंदुस्तान(कुंडलिया)
गरम समोसा खा रहा , पूरा हिंदुस्तान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
हमने तो सोचा था कि
हमने तो सोचा था कि
gurudeenverma198
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
Anand Kumar
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
■ समझ का अकाल
■ समझ का अकाल
*Author प्रणय प्रभात*
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
कस्तूरी इत्र
कस्तूरी इत्र
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तोड़ा है तुमने मुझे
तोड़ा है तुमने मुझे
Madhuyanka Raj
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
काला दिन
काला दिन
Shyam Sundar Subramanian
विनय
विनय
Kanchan Khanna
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
विमला महरिया मौज
दुनिया में कहीं से,बस इंसान लाना
दुनिया में कहीं से,बस इंसान लाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🫴झन जाबे🫴
🫴झन जाबे🫴
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
अजीब मानसिक दौर है
अजीब मानसिक दौर है
पूर्वार्थ
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
A Little Pep Talk
A Little Pep Talk
Ahtesham Ahmad
कितने छेड़े और  कितने सताए  गए है हम
कितने छेड़े और कितने सताए गए है हम
Yogini kajol Pathak
तुम
तुम
Er. Sanjay Shrivastava
***
*** " आधुनिकता के असर.......! " ***
VEDANTA PATEL
शायरी
शायरी
goutam shaw
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
Rj Anand Prajapati
"प्यार"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...