Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2017 · 2 min read

चुनाव आया

चुनावी परिवेश पर आधारित आप सभी को सादर समर्पित एक नवरचना ——-

चुनाव आया, चुनाव आया, चुनाव आया ।
वोटों के दरिया में , नोंटों का बहाव आया ।
चुनाव आया……………….. ।

दारू ख़ुल्ली बिख़रेगी,
किसकी किस्मत निख़रेगी ।
नेता घर घर जाएँगे ,
वोटर के पैर दबाएँगे ।
वोटर आँख़ दिख़ाएगा ,
नेता को रोज घुमाएगा ।
नेता के संग वोटर में ,
बदलाव आया ।
चुनाव आया……………………. ।

घर-घर में ये चर्चा होगा ,
गली गली में पर्चा होगा ।
जिसका जितना ख़र्चा होगा ,
उसका उतना दर्ज़ा होगा ।
दर्ज़े पर ही कर्ज़ा होगा ,
कोई सिंहासन पाएगा पर ,
किसी का ढीला पुर्ज़ा होगा ।
देख़ें किस पर किसका प्रभाव आया ।
चुनाव आया …………………..।

एक ओर घर में घमासान होगा ,
एक ओर वोटर भी अञ्जान होगा ।
किसी ओर बाबरी का मुद्दा होगा ,
कहीं मुद्दा-ए-मन्दिर, शमशान होगा ।
वादों की ख़िचड़ी होगी ,
कसमों का अचार होगा ।
छोड़कर लज़ीज़ियत को ,
स्वाद में ठहराव आया ।
चुनाव आया …………………….।

कूटनीति,राजनीति त्याग, लिए ताज़नीति ।
कर्मनीति,धर्मनीति छोड़ करें, ये अनिति ।
जातिगत व्यवहार करैं,
वोटों का व्यापार करैं ।
योग्यता को छोड़ सभी ,
आरक्षण से प्यार करैं ।
आज नैतिक सत्य है ये ,
तभी तो बिख़राव आया ।
चुनाव आया ……………………..।

पाँच साल आए नहीं ,
सूरत ये दिख़ाए नहीं ।
वापस लौट आए कैसे ,
जरा भी लज़ाए नहीं ।
बार-बार ख़ून चूसा ,
फिर भी लाई है मञ्जूषा ।
सोचिए तो फिर से इनमें ,
क्यूं सेवा का भाव आया ।
चुनाव आया ……………………..।

हमको ये बताना होगा ,
पोलिंग बूथ जाना होगा ।
न कोई कहानी होगी ,
न कोई बहाना होगा ।
अबकी बार कहे ‘मुदगल’ ,
सत्य को जिताना होगा ।
एक बार मौका फिर ,
आपका ज़नाब आया ।
चुनाव आया ………………………।

लोकेन्द्र मुदगल

Language: Hindi
1 Comment · 344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज पशु- पक्षी कीमती
आज पशु- पक्षी कीमती
Meera Thakur
भोर के ओस!
भोर के ओस!
कविता झा ‘गीत’
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
जो लिख रहे हैं वो एक मज़बूत समाज दे सकते हैं और
जो लिख रहे हैं वो एक मज़बूत समाज दे सकते हैं और
Sonam Puneet Dubey
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
मन में रख विश्वास,
मन में रख विश्वास,
Anant Yadav
मिलती है मंजिले उनको जिनके इरादो में दम होता है .
मिलती है मंजिले उनको जिनके इरादो में दम होता है .
Sumer sinh
खुद के वजूद की
खुद के वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
गुमनाम 'बाबा'
*रिवाज : आठ शेर*
*रिवाज : आठ शेर*
Ravi Prakash
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दुनिया रंग दिखाती है
दुनिया रंग दिखाती है
Surinder blackpen
"बहुत है"
Dr. Kishan tandon kranti
2839.*पूर्णिका*
2839.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फर्क नही पड़ता है
फर्क नही पड़ता है
ruby kumari
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
சிந்தனை
சிந்தனை
Shyam Sundar Subramanian
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
अगर आपकी निरंकुश व नाबालिग औलाद
अगर आपकी निरंकुश व नाबालिग औलाद "ड्रिंकिंग और ड्रायविंग" की
*प्रणय प्रभात*
भीड़ की नजर बदल रही है,
भीड़ की नजर बदल रही है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
लगाव
लगाव
Arvina
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
Lokesh Sharma
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सफलता
सफलता
Babli Jha
मैंने एक चांद को देखा
मैंने एक चांद को देखा
नेताम आर सी
Loading...