Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

Affection couldn’t be found in shallow spaces.

It feels like waking up from a nasty dream,
How I just forgot about my self-esteem.
I have wasted my time in hollow places,
When I knew better, that affection couldn’t be found in shallow spaces.
People didn’t deserve but I gave them bits of me,
They took it lovingly and hit it to be shattered, see.
I thought being hurt was what I deserved the most,
Yes, I was naive; this was how I had been lost.
Then I learned to let go of the things that didn’t fit,
And found a new light that was always there but never lit.
I pulled out the hate that was secretly stored, in the gashes of my heart,
And then I saw you, waiting patiently for us and a new start.

3 Likes · 4 Comments · 344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
यादों के छांव
यादों के छांव
Nanki Patre
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
लक्ष्मी सिंह
रूप पर अनुरक्त होकर आयु की अभिव्यंजिका है
रूप पर अनुरक्त होकर आयु की अभिव्यंजिका है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कैसे हो गया बेखबर तू , हमें छोड़कर जाने वाले
कैसे हो गया बेखबर तू , हमें छोड़कर जाने वाले
gurudeenverma198
खुद पर विश्वास करें
खुद पर विश्वास करें
Dinesh Gupta
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
Anil chobisa
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*पतंग (बाल कविता)*
*पतंग (बाल कविता)*
Ravi Prakash
One day you will realized that happiness was never about fin
One day you will realized that happiness was never about fin
पूर्वार्थ
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Suryakant Dwivedi
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2688.*पूर्णिका*
2688.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
manjula chauhan
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
Sonit Parjapati
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
VINOD CHAUHAN
👌परिभाषा👌
👌परिभाषा👌
*Author प्रणय प्रभात*
आजाद लब
आजाद लब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
उसी पथ से
उसी पथ से
Kavita Chouhan
*तू ही  पूजा  तू ही खुदा*
*तू ही पूजा तू ही खुदा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
Swara Kumari arya
राम विवाह कि हल्दी
राम विवाह कि हल्दी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"सेहत का राज"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...