Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2019 · 1 min read

964 रहगुज़र

तेरी रहगुज़र से न जाने, गुज़र गए कब।
विरानगी का ना आया,ख्याल ,गुजरे जब।
तेरी रहगुज़र से………।

ख्यालों में मेरे, तू आई ,ना गई जब।
राह गुजर न जाने ,गुज़र गया कब।
तेरी रहगुज़र से………।

यूँ तो रहगुज़र थी लंबी बहुत ।
तुम्हारी चाह में ,फासला ,ना जाने तय हुआ कब।
तेरी रहगुज़र से………।

पाने को दीदार ए यार ,चलते गए।
पता ही ना चला , खा़र ए राह बन गए गुल कब।
तेरी रहगुज़र से………।

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
gurudeenverma198
#आज_का_शेर
#आज_का_शेर
*प्रणय प्रभात*
-बहुत देर कर दी -
-बहुत देर कर दी -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
लागे न जियरा अब मोरा इस गाँव में।
लागे न जियरा अब मोरा इस गाँव में।
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
Rj Anand Prajapati
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
Manisha Manjari
पूछो ज़रा दिल से
पूछो ज़रा दिल से
Surinder blackpen
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
जब सहने की लत लग जाए,
जब सहने की लत लग जाए,
शेखर सिंह
अद्वितीय संवाद
अद्वितीय संवाद
Monika Verma
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
*प्रेम कविताएं*
*प्रेम कविताएं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"पता"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
Dr MusafiR BaithA
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
Ranjeet kumar patre
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
* चान्दनी में मन *
* चान्दनी में मन *
surenderpal vaidya
उमंग जगाना होगा
उमंग जगाना होगा
Pratibha Pandey
Falling Out Of Love
Falling Out Of Love
Vedha Singh
अदब से उतारा होगा रब ने ख्बाव को मेरा,
अदब से उतारा होगा रब ने ख्बाव को मेरा,
Sunil Maheshwari
दोहावली
दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
3245.*पूर्णिका*
3245.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
Keshav kishor Kumar
बाग़ी
बाग़ी
Shekhar Chandra Mitra
Loading...