Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

9–🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸

कविता -9–छोड़ आये वो गलियां”..
———-=====———

🔸यादों का एक पिटारा है.
गहरे दबा मन के भीतर
कहो तो इसे खोलूं – देखूँ
या फिर आगे बढ़ जाऊँ?
कुछ यादें हैं कुछ भूलें हैं.
नादानी का बचपन बीता
रिश्तों की छाया में जीता
रोते हँसते जीवन बीता

एक खाने में दबे हैं किस्से.
मिलने और बिछड़ने के.
कुछ मीठे हैं कुछ कड़वे भी
हर स्वाद अभी भी जिन्दा है

मिले कभी कुछ घाव गहरे.
हैं अपने दुख दर्द के पहरे
भूली गलियाँ सvब बिसरा के
बंद कर दी मन की खिड़की
–=-=-=-==-==-=-

———======——
महिमा शुक्ला
इंदौर

Language: Hindi
38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
Phool gufran
A GIRL IN MY LIFE
A GIRL IN MY LIFE
SURYA PRAKASH SHARMA
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
#साहित्यपीडिया
#साहित्यपीडिया
*प्रणय प्रभात*
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
मकसद कि दोस्ती
मकसद कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
शाम
शाम
N manglam
.........,
.........,
शेखर सिंह
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आपकी सोच जैसी होगी
आपकी सोच जैसी होगी
Dr fauzia Naseem shad
इम्तिहान
इम्तिहान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
ruby kumari
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैथिली
मैथिली
Acharya Rama Nand Mandal
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
प्रेम
प्रेम
पंकज कुमार कर्ण
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
Suryakant Dwivedi
*सबसे अच्छी मॉं के हाथों, निर्मित रोटी-दाल है (हिंदी गजल)*
*सबसे अच्छी मॉं के हाथों, निर्मित रोटी-दाल है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
इस तरह कुछ लोग हमसे
इस तरह कुछ लोग हमसे
Anis Shah
"सावधान"
Dr. Kishan tandon kranti
करवाचौथ
करवाचौथ
Mukesh Kumar Sonkar
मैं कुछ इस तरह
मैं कुछ इस तरह
Dr Manju Saini
*गाथा बिहार की*
*गाथा बिहार की*
Mukta Rashmi
बँटवारे का दर्द
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
Loading...