Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

6

6

ज़िंदगी की जद्दोजहद से यूँ न हारिए,
उदास होकर निष्क्रिय कदापि न बैठिए।

हार कर भी बाज़ियाँ पलट दी जाती हैं,
मन को संकल्पित कर हर जंग जीतिए।

अकर्मण्यता से महल भी हो जाते हैं खण्डहर,
अवसाद से निराश हो कर मन को न उलझाइए।

जिसने स्वाद ही नहीं चखा हार का वो कैसे जीतेगा,
आशाओं के पंख बना नभ को छू लीजिए।

हो प्रतिकूल परिस्थितियां सामने खड़ी चट्टान बनकर,
हर हालात का सामना मुस्कुरा कर स्वीकार कीजिए।

यादों के असीमित समंदर में डूबकर गहरे,
केवल धवल माणिक ही ढूंढ़कर निकालिए।

थाम लीजिए हाथ एक दूसरे का ज़रूरत में,
मन में वहम, भ्रम और अहंकार न पालिए ।

अकेले आए थे, अकेले ही जाना हम सबको,
पीछे कुछ अनुकरणीय निशाँ छोड़ते जाइए।

डॉ दवीना अमर ठकराल‘देविका’

22 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्णधार
कर्णधार
Shyam Sundar Subramanian
कलरव में कोलाहल क्यों है?
कलरव में कोलाहल क्यों है?
Suryakant Dwivedi
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
Ravi Yadav
उसे भूला देना इतना आसान नहीं है
उसे भूला देना इतना आसान नहीं है
Keshav kishor Kumar
मैं तेरी पहचान हूँ लेकिन
मैं तेरी पहचान हूँ लेकिन
Shweta Soni
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
डॉक्टर रागिनी
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्यारा सा गांव
प्यारा सा गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
"प्रेम न पथभ्रमित होता है,, न करता है।"
*प्रणय प्रभात*
ले चल मुझे भुलावा देकर
ले चल मुझे भुलावा देकर
Dr Tabassum Jahan
धरती
धरती
manjula chauhan
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
★
पूर्वार्थ
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
*परिवार: सात दोहे*
*परिवार: सात दोहे*
Ravi Prakash
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
Harminder Kaur
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
♥️मां पापा ♥️
♥️मां पापा ♥️
Vandna thakur
बचाओं नीर
बचाओं नीर
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
कातिल अदा
कातिल अदा
Bodhisatva kastooriya
झूठ न इतना बोलिए
झूठ न इतना बोलिए
Paras Nath Jha
3066.*पूर्णिका*
3066.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आईना सच कहां
आईना सच कहां
Dr fauzia Naseem shad
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
sushil sarna
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
" बोलती आँखें सदा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...