Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

6. शहर पुराना

जो हाथ पकड़कर चलते थे कभी वो आज नज़रे चुराते हैं,
शायद उनके शाम का सूरज अब कहीं और ढलता होगा ।
वो एक बार को देखते थे हम देखते रहते जाते थे,
अब उनके नयनों का दर्शन कोई और कहीं करता होगा ।
उनके मोहल्ले की वो गली बल खाके बाएँ को मुड़ती थी,
अब भी शायद मुड़ती होगी बस मोहल्ला कोई और होगा ।
शहर पुराना हो गया मेरा यही वजह थी जाने की,
अब तो शायद उनका भी शहर नया कोई और होगा ।
होगा महल कोई उनका भी जैसी खबर कुछ लाए थे,
मगर बरामदे का वो सावन बस अब और नहीं होगा।

~राजीव दुत्ता ‘घुमंतू’

Language: Hindi
75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
हिन्दी ही दोस्तों
हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
Bidyadhar Mantry
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"इंसान की जमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
*किसान*
*किसान*
Dushyant Kumar
बरसात
बरसात
Bodhisatva kastooriya
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
"बड़ी बातें करने के लिए
*प्रणय प्रभात*
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
नूरफातिमा खातून नूरी
बांते
बांते
Punam Pande
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
Rj Anand Prajapati
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Mahender Singh
पितरों के लिए
पितरों के लिए
Deepali Kalra
अब ये ना पूछना कि,
अब ये ना पूछना कि,
शेखर सिंह
बीतते साल
बीतते साल
Lovi Mishra
वट सावित्री अमावस्या
वट सावित्री अमावस्या
नवीन जोशी 'नवल'
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
Swami Ganganiya
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
Yogendra Chaturwedi
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
Satish Srijan
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोपहर जल रही है सड़कों पर
दोपहर जल रही है सड़कों पर
Shweta Soni
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
पीर
पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कन्यादान
कन्यादान
Mukesh Kumar Sonkar
रमेशराज के बालमन पर आधारित बालगीत
रमेशराज के बालमन पर आधारित बालगीत
कवि रमेशराज
Loading...