Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

6- “अयोध्या का राम मंदिर”

“अयोध्या का राम मंदिर”

अयोध्या में जन्मे राम, राजा दशरथ के घराने।
घर-घर में गाए गए, खुशियों के तराने।

त्रेता द्वापर बीत गए, करते हैं राम की सराहना।
मर्यादा पुरुषोत्तम की पूजा, करता है जमाना।

स्मृति में राम की, एक मंदिर था बनवाया।
हुआ मुस्लिमों का राज, उन्होंने मंदिर को तुड़वाया।

मकरा बना था वहां, नाम दिया मस्जिद बाबरी।
मुगलों की थी सत्ता वहां, चलती रही दादागिरी।

कोर्ट में विवाद चला, कितने ही अरसे।
फैसला ना हो सका, झगड़े के डर से।

भक्तों में 92 में हाथ ले हथोड़ा।
गिरफ्तारी की परवाह बिना मकबरे को तोड़ा।

न्यायालय पर जोर डाला, फैसला सुनाने का।
बीजेपी के हाथ लगा, अवसर बनाने का।

कोर्ट में सुनवाई चली, सब ने रखा अपना पक्ष।
तारीख आगे देनी ना थी, फैसला सुनाना लक्ष्य।

तथ्यों के आधार पर, निर्णय सुनाया गया।
रामलला की जीत पर, उत्सव मनाया गया।

आधारशिला रखी गई, मंदिर निर्माण की।
कार्य निरंतर जारी हेतु, तराशने पाषाण की।

“दयानंद”

Language: Hindi
526 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वक्त के साथ सब कुछ बदल जाता है...
वक्त के साथ सब कुछ बदल जाता है...
Ram Babu Mandal
आप, मैं और एक कप चाय।
आप, मैं और एक कप चाय।
Urmil Suman(श्री)
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
।। समीक्षा ।।
।। समीक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मां
मां
Manu Vashistha
पशुओं के दूध का मनुष्य द्वारा उपयोग अत्याचार है
पशुओं के दूध का मनुष्य द्वारा उपयोग अत्याचार है
Dr MusafiR BaithA
💐अज्ञात के प्रति-69💐
💐अज्ञात के प्रति-69💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
Rj Anand Prajapati
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
Er. Sanjay Shrivastava
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
कृषि पर्व वैशाखी....
कृषि पर्व वैशाखी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
मनोज कर्ण
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
जिन्हें बुज़ुर्गों की बात
*Author प्रणय प्रभात*
खूबसूरत चेहरे
खूबसूरत चेहरे
Prem Farrukhabadi
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
मोहब्ब्बत के रंग तुम पर बरसा देंगे आज,
मोहब्ब्बत के रंग तुम पर बरसा देंगे आज,
Shubham Pandey (S P)
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
Ravi Prakash
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
धरा स्वर्ण होइ जाय
धरा स्वर्ण होइ जाय
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
कुमार
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
आने घर से हार गया
आने घर से हार गया
Suryakant Dwivedi
3034.*पूर्णिका*
3034.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नशा
नशा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...