Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !

ऐ मयूरी ! नाच दे अब,
कर रहा यह मेघ कब से छाँव तुझ पर !

क्यों अचल से दृग तुम्हारे, आज स्थिर हो रहे हैं ?
क्यों सजल सी नयन कोरें, उठ रहीं , फिर गिर रही हैं ?
आज साहस साथ लेकर सामने पहुंचा तुम्हारे
आज तो देवांगना इस और अपनी दृष्टि कर दो
कामिनी ! कर प्रलय तू अब !
प्रणय का अनुरक्त मिटने आ गया है आज तुझ पर !
ऐ मयूरी !

पंख फैला नाचने को, पर कहीं तू उड़ न जाना
तरल ज्वाला बिन बुझाये, गगन का मत छोर बनाना
जोड़ दो मन-गाँठ, अब !
नैन बनकर प्रीति-डोरी, बांधते मुझको तुझी पर !
ऐ मयूरी !

तेरी अलकों से मलय-सौरभ मचलता आ रहा है
तेरे अधरों पर कुसुम रक्ताभ खिल, हिल-डुल रहे हैं
तेरे नयनों में गुलाबी स्वप्न विचरण कर रहे हैं
सहज स्वीकृति बोध दे दे !
नव-सृजन का नव-निमंत्रण, ईश का निर्देश तुझ पर !
ऐ मयूरी !

रात्रि की अमराइयों में कूक तेरी रोज उठती
मधुर मद्धिम प्रीति की अगणित तरंगें है उमड़तीं
मुस्कुरा दे आज पल भर !
जा रहा यह पथिक देकर प्यार का सब भार तुझ पर !
ऐ मयूरी !

इस तरह क्यों विवश-मुक्ते ! झुक रहे हैं दृग तुम्हारे ?
हास्यमय रोदन लिए क्यों, मुख-परिधि बनती तुम्हारी ?
शांति से संताप सह अब !
विश्व-दुःख-घन ,आज क्षण भर, घिर पड़ेगा प्रिये, तुझ पर !
ऐ मयूरी !

आज क्षण विलगाव का है, मिलन की अब “इतिश्री” है
आज तो हॅंस कर, सहज-मन, आत्मा का मिलन कर दो !
मद, हलाहल,अमृत दे दे !
युग-तृषित की तृप्ति का हर भार तुझ पर !
ऐ मयूरी !

स्वरचित एवं मौलिक
रचयिता :(सत्य) किशोर निगम

Language: Hindi
1 Like · 432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kishore Nigam
View all
You may also like:
घर घर रंग बरसे
घर घर रंग बरसे
Rajesh Tiwari
"विनती बारम्बार"
Dr. Kishan tandon kranti
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
सत्याग्रह और उग्रता
सत्याग्रह और उग्रता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पाप का भागी
पाप का भागी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ये नोनी के दाई
ये नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Banaras
Banaras
Sahil Ahmad
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
शेखर सिंह
सागर की ओर
सागर की ओर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
Vishal babu (vishu)
विजयादशमी
विजयादशमी
Mukesh Kumar Sonkar
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
23/24.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/24.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
Dr fauzia Naseem shad
कितनों की प्यार मात खा गई
कितनों की प्यार मात खा गई
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-523💐
💐प्रेम कौतुक-523💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
"मौजूदा दौर" में
*Author प्रणय प्रभात*
पथ प्रदर्शक पिता
पथ प्रदर्शक पिता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सगीर गजल
सगीर गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मुझे किराए का ही समझो,
मुझे किराए का ही समझो,
Sanjay ' शून्य'
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
मां शैलपुत्री देवी
मां शैलपुत्री देवी
Harminder Kaur
समय
समय
Paras Nath Jha
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आदिपुरुष फ़िल्म
आदिपुरुष फ़िल्म
Dr Archana Gupta
पुरातत्वविद
पुरातत्वविद
Kunal Prashant
Loading...