Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

3018.*पूर्णिका*

3018.*पूर्णिका*
🌷 चेहरा खिलते रहे
212 2212
चेहरा खिलते रहे।
रोज हम मिलते रहे ।।
प्यार की दुनिया सजे।
हमसफर चलते रहे।।
जिंदगी महके यहाँ ।
ख्वाब यूं पलते रहे।।
जीत जाते बाजियां ।
हाथ शत्रु मलते रहे।।
नासमझ खेदू कहां ।
पेड़ यूं फलते रहे।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
17-02-2024शनिवार

48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सन्मति औ विवेक का कोष
सन्मति औ विवेक का कोष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
23/04.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/04.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चाय में इलायची सा है आपकी
चाय में इलायची सा है आपकी
शेखर सिंह
Wakt hi wakt ko batt  raha,
Wakt hi wakt ko batt raha,
Sakshi Tripathi
वसंत - फाग का राग है
वसंत - फाग का राग है
Atul "Krishn"
💐अज्ञात के प्रति-28💐
💐अज्ञात के प्रति-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इकांत बहुत प्यारी चीज़ है ये आपको उससे मिलती है जिससे सच में
इकांत बहुत प्यारी चीज़ है ये आपको उससे मिलती है जिससे सच में
पूर्वार्थ
प्रेम में सब कुछ सहज है
प्रेम में सब कुछ सहज है
Ranjana Verma
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ना जाने क्यों आज वक्त ने हालात बदल
ना जाने क्यों आज वक्त ने हालात बदल
Vishal babu (vishu)
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
आईना देख
आईना देख
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
नेता अफ़सर बाबुओं,
नेता अफ़सर बाबुओं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
Ms.Ankit Halke jha
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
मंज़िल को पाने के लिए साथ
मंज़िल को पाने के लिए साथ
DrLakshman Jha Parimal
*बल गीत (वादल )*
*बल गीत (वादल )*
Rituraj shivem verma
फादर्स डे
फादर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर सुबह उठकर अपने सपनों का पीछा करना ही हमारा वास्तविक प्रेम
हर सुबह उठकर अपने सपनों का पीछा करना ही हमारा वास्तविक प्रेम
Shubham Pandey (S P)
असर
असर
Shyam Sundar Subramanian
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
भाव में,भाषा में थोड़ा सा चयन कर लें
भाव में,भाषा में थोड़ा सा चयन कर लें
Shweta Soni
सच्ची  मौत
सच्ची मौत
sushil sarna
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
manjula chauhan
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
अजहर अली (An Explorer of Life)
Loading...