Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

2996.*पूर्णिका*

2996.*पूर्णिका*
🌷 थाम कर दामन गले लगाया
212 2212 122
थाम कर दामन गले लगाया।
हमसफर अपना तुझे बनाया।।
साथ देना सनम इस जहां में ।
जिंदगी महके जिसे सजाया ।।
देख कर दुनिया चले जरा सा ।
नेकिया करना हमें सिखाया।।
सीखते कोई हुनर यहाँ भी ।
प्यार से सुंदर रस्ते दिखाया ।।
धूप खेदू मगन मंजिलें है ।
जीत की देखो मजे चखाया।।
…………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
10-02-2024शनिवार

118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ हार के ठेकेदार।।
■ हार के ठेकेदार।।
*प्रणय प्रभात*
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
मैं अपनी खूबसूरत दुनिया में
मैं अपनी खूबसूरत दुनिया में
ruby kumari
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
Writer_ermkumar
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
Shweta Soni
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
Shyam Sundar Subramanian
लीजिए प्रेम का अवलंब
लीजिए प्रेम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हाँ मैन मुर्ख हु
हाँ मैन मुर्ख हु
भरत कुमार सोलंकी
अगर हमारा सुख शान्ति का आधार पदार्थगत है
अगर हमारा सुख शान्ति का आधार पदार्थगत है
Pankaj Kushwaha
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
sushil sarna
मेरे नयनों में जल है।
मेरे नयनों में जल है।
Kumar Kalhans
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
24)”मुस्करा दो”
24)”मुस्करा दो”
Sapna Arora
3180.*पूर्णिका*
3180.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मंजिलें
मंजिलें
Santosh Shrivastava
न शायर हूँ, न ही गायक,
न शायर हूँ, न ही गायक,
Satish Srijan
"गरीब की बचत"
Dr. Kishan tandon kranti
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
ज़िंदगी चलती है
ज़िंदगी चलती है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तू भी इसां कहलाएगा
तू भी इसां कहलाएगा
Dinesh Kumar Gangwar
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अब इश्क़ की हर रात सुहानी होगी ।
अब इश्क़ की हर रात सुहानी होगी ।
Phool gufran
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
Arvind trivedi
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
Dr Archana Gupta
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
समन्वय
समन्वय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
Loading...