Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2024 · 1 min read

2935.*पूर्णिका*

2935.*पूर्णिका*
🌷 ना जाने क्यूं तनहा तनहा लगता है 🌷
22 22 22 22 22 2
ना जाने क्यूं तनहा तनहा लगता है ।
पास यहाँ सब तनहा तनहा लगता है ।।
खुशियाँ लेकर आये हैं देखो इतनी।
गम से यारी,तनहा तनहा लगता है ।।
मौसम भी तो रहता है रोज सुहाना ।
मालूम नहीं तनहा तनहा लगता है ।।
प्यार किया तो डरना क्या सीखा हमने।
साथी मेरे तनहा तनहा लगता है ।।
साथ निभाते दिलवर भी हरदम खेदू।
बेफ्रिक फिर भी तनहा तनहा लगता है ।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
15-01-2024सोमवार

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
छप्पन भोग
छप्पन भोग
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
पापा के वह शब्द..
पापा के वह शब्द..
Harminder Kaur
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इश्क़ में कोई
इश्क़ में कोई
लक्ष्मी सिंह
सवाल जिंदगी के
सवाल जिंदगी के
Dr. Rajeev Jain
🌲प्रकृति
🌲प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
"साड़ी"
Dr. Kishan tandon kranti
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तय
तय
Ajay Mishra
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
Sanjay ' शून्य'
न चाहे युद्ध वही तो बुद्ध है।
न चाहे युद्ध वही तो बुद्ध है।
Buddha Prakash
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
SPK Sachin Lodhi
"प्रेम की अनुभूति"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आँसू
आँसू
जगदीश लववंशी
जिनमें कोई बात होती है ना
जिनमें कोई बात होती है ना
Ranjeet kumar patre
*चलो खरीदें कोई पुस्तक, फिर उसको पढ़ते हैं (गीत)*
*चलो खरीदें कोई पुस्तक, फिर उसको पढ़ते हैं (गीत)*
Ravi Prakash
जागो रे बीएलओ
जागो रे बीएलओ
gurudeenverma198
प्यारा बंधन प्रेम का
प्यारा बंधन प्रेम का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
umesh mehra
3171.*पूर्णिका*
3171.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज तुम्हारे होंठों का स्वाद फिर याद आया ज़िंदगी को थोड़ा रोक क
आज तुम्हारे होंठों का स्वाद फिर याद आया ज़िंदगी को थोड़ा रोक क
पूर्वार्थ
■ काब्यमय प्रयोगधर्म
■ काब्यमय प्रयोगधर्म
*Author प्रणय प्रभात*
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
Subhash Singhai
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...