Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

2931.*पूर्णिका*

2931.*पूर्णिका*
🌷 मिलता वही जो हम बोते हैं🌷
2212 22 22 2
मिलता वही जो हम बोते हैं ।
सच हँसते कोई रोते हैं ।।
जीवन यहाँ है बस संवारे ।
कुछ दुख नहीं सुख सब खोते हैं।।
हीरा चमकते अंधेरे में ।
यूं बैल कोल्हू के जोते हैं ।।
हसरत जहाँ है पूरी होती ।
दिन रात न लगाते गोते हैं ।।
तकदीर बदले अपनी खेदू ।
नाहक न हम बोझा ढ़ोते हैं ।।
………..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
13-01-2024शनिवार

98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रुत चुनाव की आई 🙏
रुत चुनाव की आई 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शहीदों के लिए (कविता)
शहीदों के लिए (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
.हिदायत
.हिदायत
shabina. Naaz
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
#प्रेरक_प्रसंग
#प्रेरक_प्रसंग
*प्रणय प्रभात*
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Bodhisatva kastooriya
THE GREY GODDESS!
THE GREY GODDESS!
Dhriti Mishra
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
आत्मबल
आत्मबल
Punam Pande
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
ruby kumari
* माई गंगा *
* माई गंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
ज्ञान-दीपक
ज्ञान-दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
Kishore Nigam
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
VINOD CHAUHAN
दोस्ती
दोस्ती
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तू दूरबीन से न कभी ढूँढ ख़ामियाँ
तू दूरबीन से न कभी ढूँढ ख़ामियाँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
3466🌷 *पूर्णिका* 🌷
3466🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
*नृत्य करोगे तन्मय होकर, तो भी प्रभु मिल जाएँगे 【हिंदी गजल/ग
*नृत्य करोगे तन्मय होकर, तो भी प्रभु मिल जाएँगे 【हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
खूबसूरती
खूबसूरती
RAKESH RAKESH
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
FOR THE TREE
FOR THE TREE
SURYA PRAKASH SHARMA
🌹हार कर भी जीत 🌹
🌹हार कर भी जीत 🌹
Dr Shweta sood
देश भक्ति
देश भक्ति
Sidhartha Mishra
Loading...