Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

2913.*पूर्णिका*

2913.*पूर्णिका*
🌷 जो कुछ चाहते सब मिलेगा🌷
22 212 2122
जो कुछ चाहते,सब मिलेगा।
दिल में प्यार यूं जब खिलेगा।।
दुनिया रोज ही देख जाना ।
बस तू रख श्रध्दा रब मिलेगा।।
किसको है पता सोच कैसी ।
कौन यहाँ हमें कब मिलेगा ।।
कल का क्या करें हम भरोसा।
वक्त साथ हो तब मिलेगा।।
नीयत साफ हो देख खेदू।
सच में दामन अदब मिलेगा।।
……..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
06-01-2024रविवार

103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
💐प्रेम कौतुक-279💐
💐प्रेम कौतुक-279💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
सफ़ेदे का पत्ता
सफ़ेदे का पत्ता
नन्दलाल सुथार "राही"
विषय- सत्य की जीत
विषय- सत्य की जीत
rekha mohan
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
Kanchan Khanna
संगठग
संगठग
Sanjay ' शून्य'
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
Charu Mitra
सोचा नहीं कभी
सोचा नहीं कभी
gurudeenverma198
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
Dr MusafiR BaithA
जय हिन्द वाले
जय हिन्द वाले
Shekhar Chandra Mitra
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
*विश्व योग का दिन पावन, इक्कीस जून को आता(गीत)*
*विश्व योग का दिन पावन, इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विचार
विचार
Jyoti Khari
■ पांचजन्य के डुप्लीकेट।
■ पांचजन्य के डुप्लीकेट।
*Author प्रणय प्रभात*
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
Anis Shah
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
shabina. Naaz
23/72.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/72.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
मनोज कर्ण
शेर
शेर
Dr. Kishan tandon kranti
सावन
सावन
Ambika Garg *लाड़ो*
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
जाति-धर्म में सब बटे,
जाति-धर्म में सब बटे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
पूर्वार्थ
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
रक्तिम- इतिहास
रक्तिम- इतिहास
शायर देव मेहरानियां
राम आए हैं भाई रे
राम आए हैं भाई रे
Harinarayan Tanha
विचार, संस्कार और रस [ एक ]
विचार, संस्कार और रस [ एक ]
कवि रमेशराज
Loading...