Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jan 2024 · 1 min read

2883.*पूर्णिका*

2883.*पूर्णिका*
🌷 जिसको गले हमने लगाया🌷
2212 2212 2
जिसको गले हमने लगाया ।
दुनिया जहाँ हमने सजाया ।।

मंजिल मिली उसकी उसे सब।
यूं प्यार से सुंदर बनाया।।

बेदर्द जमाना कुछ न समझे।
रास्ता नया हमने दिखाया ।।

ये बात अपनी कौन करते ।
बिछुड़े हुए हमने मिलाया ।।

बदले नजारे आज खेदू।
यूं नजरिया हमने दिखाया।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
03-01-2024बुधवार

104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार में ही तकरार होती हैं।
प्यार में ही तकरार होती हैं।
Neeraj Agarwal
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
Shubham Pandey (S P)
💐प्रेम कौतुक-524💐
💐प्रेम कौतुक-524💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
DrLakshman Jha Parimal
नाकाम मुहब्बत
नाकाम मुहब्बत
Shekhar Chandra Mitra
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
पूर्वार्थ
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
अच्छी बात है
अच्छी बात है
Ashwani Kumar Jaiswal
खद्योत हैं
खद्योत हैं
Sanjay ' शून्य'
दर्द अपना संवार
दर्द अपना संवार
Dr fauzia Naseem shad
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
हरवंश हृदय
खून के रिश्ते
खून के रिश्ते
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
"स्टिंग ऑपरेशन"
Dr. Kishan tandon kranti
वोटों की फसल
वोटों की फसल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भारत
भारत
Bodhisatva kastooriya
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐💐दोहा निवेदन💐💐
💐💐दोहा निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
उल्फ़त का  आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
उल्फ़त का आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
sushil sarna
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
Dheerja Sharma
🫴झन जाबे🫴
🫴झन जाबे🫴
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
Shweta Soni
"ओट पर्दे की"
Ekta chitrangini
"सुबह की चाय"
Pushpraj Anant
नयी सुबह
नयी सुबह
Kanchan Khanna
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
Loading...