Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Dec 2023 · 1 min read

2806. *पूर्णिका*

2806. पूर्णिका
खुश रहने की कला सीखो
22 2212 22
खुश रहने की कला सीखो।
करना अपना भला सीखो।।
जीवन आनंद है सच में ।
हो दूर यहाँ बला सीखो।।
राहत की बात क्या अपनी।
हल हो रोज मसला सीखो।।
अपने बनते रिश्तें सुंदर।
रखना तुम फासला सीखो।।
दुनिया अपनी मुठ्ठी खेदू।
जीत यहाँ हौसला सीखो।।
……✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
09-12-2023शनिवार

111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सरलता से जो लें सॉंसें, उसे वरदान कहते हैं (मुक्तक)*
*सरलता से जो लें सॉंसें, उसे वरदान कहते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Sakshi Tripathi
💐अज्ञात के प्रति-116💐
💐अज्ञात के प्रति-116💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रहता हूँ  ग़ाफ़िल, मख़लूक़ ए ख़ुदा से वफ़ा चाहता हूँ
रहता हूँ ग़ाफ़िल, मख़लूक़ ए ख़ुदा से वफ़ा चाहता हूँ
Mohd Anas
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
आशा
आशा
नवीन जोशी 'नवल'
3235.*पूर्णिका*
3235.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रक्षा बन्धन पर्व ये,
रक्षा बन्धन पर्व ये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
manjula chauhan
'आलम-ए-वजूद
'आलम-ए-वजूद
Shyam Sundar Subramanian
"प्यार में तेरे "
Pushpraj Anant
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
Vishal babu (vishu)
हमनवा
हमनवा
Bodhisatva kastooriya
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
😊आज का ज्ञान😊
😊आज का ज्ञान😊
*Author प्रणय प्रभात*
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
Harminder Kaur
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
कवि दीपक बवेजा
हल्लाबोल
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
सम्मान
सम्मान
Paras Nath Jha
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
Sandeep Kumar
"स्मार्ट कौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
The bestest education one can deliver is  humanity and achie
The bestest education one can deliver is humanity and achie
Nupur Pathak
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
Rakesh Singh
Loading...