Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2023 · 1 min read

2776. *पूर्णिका*

2776. पूर्णिका
बात क्या है दिल की जान ले
2122 22 212
बात क्या है दिल की जान ले।
प्यार अपना तू पहचान ले।।
महकती बगियां सी जिंदगी।
खूबसूरत दुनिया भान ले।।
देखने वाले बस देखते ।
कामयाबी सीना तान ले।।
पांव चूमे मंजिल बस यहाँ ।
नामुमकिन नहीं जब ठान ले।।
देख खेदू पूरी हसरतें ।
बदल जाते एक जुबान ले।।
……✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
01-12-2023शुक्रवार

171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
*मोलभाव से बाजारूपन, रिश्तों में भी आया है (हिंदी गजल)*
*मोलभाव से बाजारूपन, रिश्तों में भी आया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
शेखर सिंह
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
Nidhi Kumar
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
Rituraj shivem verma
एक कप कड़क चाय.....
एक कप कड़क चाय.....
Santosh Soni
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Dr.Pratibha Prakash
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
Dr MusafiR BaithA
श्राद्ध
श्राद्ध
Mukesh Kumar Sonkar
है शामिल
है शामिल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
The_dk_poetry
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
shabina. Naaz
आसाँ नहीं है - अंत के सच को बस यूँ ही मान लेना
आसाँ नहीं है - अंत के सच को बस यूँ ही मान लेना
Atul "Krishn"
शाश्वत, सत्य, सनातन राम
शाश्वत, सत्य, सनातन राम
श्रीकृष्ण शुक्ल
नंबर पुराना चल रहा है नई ग़ज़ल Vinit Singh Shayar
नंबर पुराना चल रहा है नई ग़ज़ल Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
नारी सौन्दर्य ने
नारी सौन्दर्य ने
Dr. Kishan tandon kranti
द्वंद्वात्मक आत्मा
द्वंद्वात्मक आत्मा
पूर्वार्थ
दीवाली की रात आयी
दीवाली की रात आयी
Sarfaraz Ahmed Aasee
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
पहले अपने रूप का,
पहले अपने रूप का,
sushil sarna
जीवनमंथन
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
यह मत
यह मत
Santosh Shrivastava
"डोली बेटी की"
Ekta chitrangini
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
Loading...