Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2023 · 1 min read

2711.*पूर्णिका*

2711.*पूर्णिका*
साथ चल कर देख लिया
212 22 22
साथ चल कर देख लिया ।
चाह सुंदर देख लिया ।।
जिंदगी प्यारी सी है ।
राह पर चल देख लिया।।
रोकते कब कौन यहाँ ।
जान देकर देख लिया।।
बस खुशी यूं रोज मिले।
शान बन कर देख लिया।।
प्यार से दुनिया खेदू।
प्यार करके देख लिया।।
…………✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
10-11-23 शुक्रवार

227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिजली कड़कै
बिजली कड़कै
MSW Sunil SainiCENA
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
दो वक्त के निवाले ने मजदूर बना दिया
दो वक्त के निवाले ने मजदूर बना दिया
VINOD CHAUHAN
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
तू क्यों रोता है
तू क्यों रोता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
देश भक्ति का ढोंग
देश भक्ति का ढोंग
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
■ एक शाश्वत सच
■ एक शाश्वत सच
*Author प्रणय प्रभात*
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
मनमीत मेरे तुम हो
मनमीत मेरे तुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
प्यार तो हम में और हमारे चारों ओर होना चाहिए।।
प्यार तो हम में और हमारे चारों ओर होना चाहिए।।
शेखर सिंह
आहत न हो कोई
आहत न हो कोई
Dr fauzia Naseem shad
शून्य से अनंत
शून्य से अनंत
The_dk_poetry
वो तो है ही यहूद
वो तो है ही यहूद
shabina. Naaz
"YOU ARE GOOD" से शुरू हुई मोहब्बत "YOU
nagarsumit326
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
जितना आपके पास उपस्थित हैं
जितना आपके पास उपस्थित हैं
Aarti sirsat
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
सत्य कुमार प्रेमी
2459.पूर्णिका
2459.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
संवेदना ही सौन्दर्य है
संवेदना ही सौन्दर्य है
Ritu Asooja
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
लवकुश यादव "अज़ल"
दोहे -लालची
दोहे -लालची
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
-        🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
- 🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
Mahima shukla
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हिंसा
हिंसा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...