Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

2702.*पूर्णिका*

2702.*पूर्णिका*
दिल मेरा मतवाले
22 22 22
दिल मेरा मतवाले।
अपना रब रखवाले।।
कहना क्या आज हमें ।
दीवाना दिलवाले ।।
बहता है प्यार जहाँ ।
रहते भोले भाले ।।
महके बगियां अपनी।
खोल किस्मत के ताले।।
रोज कहानी खेदू ।
हंसे भी हँसा ले।।
……✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
09-11-23 गुरुवार

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
*असर*
*असर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
ruby kumari
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि----
(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि----
Kishore Nigam
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
***
*** " चौराहे पर...!!! "
VEDANTA PATEL
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
कवि रमेशराज
आज अचानक फिर वही,
आज अचानक फिर वही,
sushil sarna
सुनो जीतू,
सुनो जीतू,
Jitendra kumar
सरल जीवन
सरल जीवन
Brijesh Kumar
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
तब गाँव हमे अपनाता है
तब गाँव हमे अपनाता है
संजय कुमार संजू
दंगे-फसाद
दंगे-फसाद
Shekhar Chandra Mitra
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कर्म
कर्म
Er. Sanjay Shrivastava
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
समुन्दर को हुआ गुरुर,
समुन्दर को हुआ गुरुर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पुरुष का दर्द
पुरुष का दर्द
पूर्वार्थ
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
शिक्षक ही तो देश का भाग्य निर्माता है
शिक्षक ही तो देश का भाग्य निर्माता है
gurudeenverma198
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अगर तलाश करूं कोई मिल जायेगा,
अगर तलाश करूं कोई मिल जायेगा,
शेखर सिंह
2453.पूर्णिका
2453.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
Sanjay ' शून्य'
*
*"शिव आराधना"*
Shashi kala vyas
Loading...