Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2023 · 1 min read

2608.पूर्णिका

2608.पूर्णिका
🌷 जीवन नया गढ़ रहे🌷
2212 212
जीवन नया गढ़ रहे।
सोते जगे पढ़ रहे ।।
मंजिल नई यूं मिली।
हम नित शिखर चढ़ रहे ।।
दुनिया कहाँ देखती ।
कोई यहाँ बढ़ रहे ।।
बस हाथ ये थाम के।
अपनी किस्मत कढ़ रहे ।।
इंसान खेदू भले।
अपना जहाँ मढ़ रहे ।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
12-10-2023गुरू वार

136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
'अशांत' शेखर
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
Shekhar Chandra Mitra
राह हमारे विद्यालय की
राह हमारे विद्यालय की
bhandari lokesh
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
Keshav kishor Kumar
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*जानो तन में बस रहा, भीतर अद्भुत कौन (कुंडलिया)*
*जानो तन में बस रहा, भीतर अद्भुत कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
होगा बढ़िया व्यापार
होगा बढ़िया व्यापार
Buddha Prakash
चेहरे की पहचान ही व्यक्ति के लिये मायने रखती है
चेहरे की पहचान ही व्यक्ति के लिये मायने रखती है
शेखर सिंह
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
हर कोरे कागज का जीवंत अल्फ़ाज़ बनना है मुझे,
हर कोरे कागज का जीवंत अल्फ़ाज़ बनना है मुझे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
आदान-प्रदान
आदान-प्रदान
Ashwani Kumar Jaiswal
लिख दो किताबों पर मां और बापू का नाम याद आए तो पढ़ो सुबह दोप
लिख दो किताबों पर मां और बापू का नाम याद आए तो पढ़ो सुबह दोप
★ IPS KAMAL THAKUR ★
■ जारी रही दो जून की रोटी की जंग
■ जारी रही दो जून की रोटी की जंग
*Author प्रणय प्रभात*
जून की दोपहर (कविता)
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
A little hope can kill you.
A little hope can kill you.
Manisha Manjari
You lived through it, you learned from it, now it's time to
You lived through it, you learned from it, now it's time to
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पहचान तेरी क्या है
पहचान तेरी क्या है
Dr fauzia Naseem shad
प्यार ना सही पर कुछ तो था तेरे मेरे दरमियान,
प्यार ना सही पर कुछ तो था तेरे मेरे दरमियान,
Vishal babu (vishu)
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
एक दिन की बात बड़ी
एक दिन की बात बड़ी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दूर देदो पास मत दो
दूर देदो पास मत दो
Ajad Mandori
"इस जगत में"
Dr. Kishan tandon kranti
बचपन में थे सवा शेर
बचपन में थे सवा शेर
VINOD CHAUHAN
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
Loading...