Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2023 · 1 min read

2506.पूर्णिका

2506.पूर्णिका
🌷 देख खुला आसमान है 🌷
22 22 1212
देख खुला आसमान है ।
खुद संभाले कमान है ।।
आओं बंदिश नहीं कहीं।
जाने जो योगदान है ।।
सच में गहरा रिश्ता यहाँ ।
अपनी आज पहचान है ।।
रातों की नींद मधुरतम ।
दिन बहुतेरे जहान है ।।
कहते खेदू खरा खरा ।
अपना भारत महान है ।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
27-9-2023बुधवार

150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दूरियों में नजर आयी थी दुनियां बड़ी हसीन..
दूरियों में नजर आयी थी दुनियां बड़ी हसीन..
'अशांत' शेखर
3189.*पूर्णिका*
3189.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
लवकुश यादव "अज़ल"
संगीत
संगीत
Vedha Singh
नयी सुबह
नयी सुबह
Kanchan Khanna
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
Rohit yadav
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
बरबादी   का  जश्न  मनाऊं
बरबादी का जश्न मनाऊं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इस तरह बदल गया मेरा विचार
इस तरह बदल गया मेरा विचार
gurudeenverma198
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
"किसी के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
आंखें मूंदे हैं
आंखें मूंदे हैं
Er. Sanjay Shrivastava
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
Anil Mishra Prahari
जीवन से पहले या जीवन के बाद
जीवन से पहले या जीवन के बाद
Mamta Singh Devaa
राखी
राखी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पूरी उम्र बस एक कीमत है !
पूरी उम्र बस एक कीमत है !
पूर्वार्थ
गीत
गीत
Shiva Awasthi
■ एक बहाना मिलने का...
■ एक बहाना मिलने का...
*Author प्रणय प्रभात*
मुस्कान
मुस्कान
नवीन जोशी 'नवल'
तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA
तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कविता
कविता
Shyam Pandey
शिवोहं
शिवोहं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-506💐
💐प्रेम कौतुक-506💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इंसान की सूरत में
इंसान की सूरत में
Dr fauzia Naseem shad
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
Rajesh Kumar Arjun
सांसों के सितार पर
सांसों के सितार पर
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
Loading...