Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

245. “आ मिलके चलें”

हिन्दी काव्य-रचना संख्या: 245.
शीर्षक: “आ मिलके चलें”
(रविवार, 16 दिसम्बर 2007)
—————————-

आ मिलके चलें
खुशियों के देश में
कि-
गम ना कोई सताए अब।
बरसे घटाएं
सावन आए
आकाश पुष्प बरसाए अब।।
तूं मुस्काए तो ऐसा लगे
रिमझिम गीत सुनाए अब।
तूं लब खोले
तो ऐसा लगे
कोयल कूक मचाए अब।।
तूं साथ चले
तेरी ये पायल
मेरी धड़कन बन जाए अब।
आ मिलके चलें
खुशियों के देश में
कि-
गम ना कोई सताए अब।।

-सुनील सैनी “सीना”
राम नगर, रोहतक रोड़, जीन्द (हरियाणा)-126102.

1 Like · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
*अद्‌भुत है अनमोल देह, इसकी कीमत पह‌चानो(गीत)*
*अद्‌भुत है अनमोल देह, इसकी कीमत पह‌चानो(गीत)*
Ravi Prakash
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
अर्थ शब्दों के. (कविता)
अर्थ शब्दों के. (कविता)
sandeep kumar Yadav
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
VINOD CHAUHAN
■ सत्यानासी कहीं का।
■ सत्यानासी कहीं का।
*Author प्रणय प्रभात*
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
gurudeenverma198
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
तुम्हारी है जुस्तजू
तुम्हारी है जुस्तजू
Surinder blackpen
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Urmil Suman(श्री)
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
कृपाण घनाक्षरी....
कृपाण घनाक्षरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
Vishal babu (vishu)
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
दीवानी कान्हा की
दीवानी कान्हा की
rajesh Purohit
थक गया दिल
थक गया दिल
Dr fauzia Naseem shad
*** सफलता की चाह में......! ***
*** सफलता की चाह में......! ***
VEDANTA PATEL
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
अंसार एटवी
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक पूरी सभ्यता बनाई है
एक पूरी सभ्यता बनाई है
Kunal Prashant
रामायण से सीखिए,
रामायण से सीखिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
Vandna thakur
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
3377⚘ *पूर्णिका* ⚘
3377⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
पूर्वार्थ
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...