Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2023 · 1 min read

2440.पूर्णिका

2440.पूर्णिका
🌷हालात देख हम चलते हैं 🌷
2212 122 22
हालात देख हम चलते हैं ।
यूं चाल देख हम चलते हैं ।।
कब फूल महकते खिल खिलके।
खुशबू न देख हम चलते हैं ।।
बस प्यार है बहुत ये दिल में ।
सब बांट देख हम चलते हैं ।।
पहचान चमक मेरी दुनिया ।
अब साथ देख हम चलते हैं ।।
बनके निदान खुद कर खेदू ।
बलिदान देख हम चलते हैं ।।
……….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
20-8-2023रविवार

234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Sushil Pandey
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
Rashmi Sanjay
सहज - असहज
सहज - असहज
Juhi Grover
भारत माता के सच्चे सपूत
भारत माता के सच्चे सपूत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
गरीब
गरीब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mayank Kumar
वो ज़िद्दी था बहुत,
वो ज़िद्दी था बहुत,
पूर्वार्थ
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
कलयुग और सतयुग
कलयुग और सतयुग
Mamta Rani
आंखों से बयां नहीं होते
आंखों से बयां नहीं होते
Harminder Kaur
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
Shashi kala vyas
माटी
माटी
जगदीश लववंशी
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
Dr. Kishan Karigar
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
CA Amit Kumar
सुनो जीतू,
सुनो जीतू,
Jitendra kumar
इंसान जिंहें कहते
इंसान जिंहें कहते
Dr fauzia Naseem shad
श्रम करो! रुकना नहीं है।
श्रम करो! रुकना नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"आँसू"
Dr. Kishan tandon kranti
भोर होने से पहले .....
भोर होने से पहले .....
sushil sarna
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
अध्यापकों का स्थानांतरण (संस्मरण)
अध्यापकों का स्थानांतरण (संस्मरण)
Ravi Prakash
गरीब और बुलडोजर
गरीब और बुलडोजर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ये मौन अगर.......! ! !
ये मौन अगर.......! ! !
Prakash Chandra
ना कोई हिन्दू गलत है,
ना कोई हिन्दू गलत है,
SPK Sachin Lodhi
#तस्वीर_पर_शेर:--
#तस्वीर_पर_शेर:--
*प्रणय प्रभात*
" टैगोर "
सुनीलानंद महंत
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
Shivkumar Bilagrami
Loading...