Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

2399.पूर्णिका

2399.पूर्णिका
🌹ताला और चाबी है 🌹
22 212 22
ताला और चाबी है ।
पाते कामयाबी है ।।
देती मेहनत सब कुछ ।
ठाठ जहाँ नवाबी है ।।
मस्त है जिंदगी अपनी।
सुधरे जो खराबी है ।।
चाहत प्यार की दुनिया ।
मौसम भी शबाबी है ।।
दीवाना सभी खेदू ।
रंग यहाँ गुलाबी है ।।
…………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
15-7-2023शनिवार

147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
Anis Shah
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
Ravi Prakash
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
రామయ్య మా రామయ్య
రామయ్య మా రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
लफ्ज़
लफ्ज़
Dr Parveen Thakur
"एहसासों के दामन में तुम्हारी यादों की लाश पड़ी है,
Aman Kumar Holy
सर्द रातें
सर्द रातें
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
है कौन वो राजकुमार!
है कौन वो राजकुमार!
Shilpi Singh
बचपन बेटी रूप में
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
*****श्राद्ध कर्म*****
*****श्राद्ध कर्म*****
Kavita Chouhan
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"आंधी की तरह आना, तूफां की तरह जाना।
*प्रणय प्रभात*
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
Dr Manju Saini
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
कवि रमेशराज
वचन सात फेरों का
वचन सात फेरों का
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
Phool gufran
मुझसा फ़कीर कोई ना हुआ,
मुझसा फ़कीर कोई ना हुआ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
VINOD CHAUHAN
"आलिंगन"
Dr. Kishan tandon kranti
मीठी नींद नहीं सोना
मीठी नींद नहीं सोना
Dr. Meenakshi Sharma
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
" खामोशी "
Aarti sirsat
हमें लगा  कि वो, गए-गुजरे निकले
हमें लगा कि वो, गए-गुजरे निकले
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...