Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

2349.पूर्णिका

2349.पूर्णिका
🌹बात कोई सुनते नहीं🌹
2122 2212
बात कोई सुनते नहीं ।
राज क्या है गुनते नहीं ।।
उतर आते हैं सड़क पे ।
सिर कभी भी धुनते नहीं ।।
गैर कहते अपना हमें ।
रोज सपनें बुनते नहीं ।।
धूप बादल मौसम यहाँ ।
ठंड गरमी भुनते नहीं ।।
साथ हरदम खेदू खड़े ।
गलत राहें चुनते नहीं ।।
…………..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
19-6-2023सोमवार

417 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
मानव और मशीनें
मानव और मशीनें
Mukesh Kumar Sonkar
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
Rj Anand Prajapati
पल
पल
Sangeeta Beniwal
To my dear Window!!
To my dear Window!!
Rachana
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
मन के सवालों का जवाब नही
मन के सवालों का जवाब नही
भरत कुमार सोलंकी
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
भाग्य निर्माता
भाग्य निर्माता
Shashi Mahajan
"दामन"
Dr. Kishan tandon kranti
2638.पूर्णिका
2638.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भुला देना.....
भुला देना.....
A🇨🇭maanush
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भरे मन भाव अति पावन....
भरे मन भाव अति पावन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
Dr. Rajeev Jain
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
डॉक्टर रागिनी
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
चंद्रयान ने चांद से पूछा, चेहरे पर ये धब्बे क्यों।
चंद्रयान ने चांद से पूछा, चेहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
ତୁମ ର ହସ
ତୁମ ର ହସ
Otteri Selvakumar
* प्रभु राम के *
* प्रभु राम के *
surenderpal vaidya
राष्ट्र हित में मतदान
राष्ट्र हित में मतदान
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
Neelam Sharma
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
गलत चुनाव से
गलत चुनाव से
Dr Manju Saini
फ़ितरतन
फ़ितरतन
Monika Verma
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
Loading...