Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

2317.पूर्णिका

2317.पूर्णिका
🌹कोई साथ रहता नहीं 🌹
22 212 212
कोई साथ रहता नहीं ।
दिल की बात कहता नहीं ।।
देखो क्या जमाना यहाँ ।
दर्द भी तनिक सहता नहीं ।।
दुनिया मतलबी बेरहम ।
यूं ही खून बहता नहीं ।।
कहते प्यार में प्यार हो ।
सच दीवार ढ़हता नहीं ।।
साथी आज खेदू जहाँ ।
बोलों कौन चहता नहीं ।।
……….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
30-7-2023रविवार

263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लज्जा
लज्जा
Shekhar Chandra Mitra
खून के रिश्ते
खून के रिश्ते
Dr. Pradeep Kumar Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
Amit Pathak
Be happy with the little that you have, there are people wit
Be happy with the little that you have, there are people wit
पूर्वार्थ
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
जीवन दर्शन
जीवन दर्शन
Prakash Chandra
डाल-डाल तुम हो कर आओ
डाल-डाल तुम हो कर आओ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*सुमित्रा (कुंडलिया)*
*सुमित्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
Ashwani Kumar Jaiswal
अष्टांग मार्ग गीत
अष्टांग मार्ग गीत
Buddha Prakash
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
मुझे पता है।
मुझे पता है।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
"ठीक है कि भड़की हुई आग
*Author प्रणय प्रभात*
2847.*पूर्णिका*
2847.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
कंक्रीट के गुलशन में
कंक्रीट के गुलशन में
Satish Srijan
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
Dr MusafiR BaithA
क्या ?
क्या ?
Dinesh Kumar Gangwar
जंगल ये जंगल
जंगल ये जंगल
Dr. Mulla Adam Ali
चलती है जिंदगी
चलती है जिंदगी
डॉ. शिव लहरी
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
हर खुशी
हर खुशी
Dr fauzia Naseem shad
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
सौरभ पाण्डेय
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
Vivek Pandey
Loading...