Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Dec 2023 · 1 min read

23/193. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/193. छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
🌷 खुद ला हुसियार समझथे🌷
22 2212 12
खुद ला हुसियार समझथे।
हमला बेकार समझथे।।
सेखी मारत रथे इहां ।
चुतिया संसार समझथे।।
कोनो जानय नहीं दरद ।
मनखे बीमार समझथे।।
तै रोज सुधार ले बुजा।
लबरा सरकार समझथे।।
खेदू के गोठ सुन सुघ्घर ।
बस बेड़ापार समझथे ।।
…..✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
16-12-2023शनिवार

165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"स्वर्ग-नरक की खोज"
Dr. Kishan tandon kranti
*प्रसादी जिसको देता है, उसे संसार कम देगा 【मुक्तक】*
*प्रसादी जिसको देता है, उसे संसार कम देगा 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
Mahendra Narayan
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
Sanjay ' शून्य'
ओ! महानगर
ओ! महानगर
Punam Pande
समझदार बेवकूफ़
समझदार बेवकूफ़
Shyam Sundar Subramanian
काव्य
काव्य
साहित्य गौरव
" बीता समय कहां से लाऊं "
Chunnu Lal Gupta
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
Vishal babu (vishu)
2821. *पूर्णिका*
2821. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहाँ अब पहले जैसी सादगी है
कहाँ अब पहले जैसी सादगी है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रश्चित
प्रश्चित
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोहा - चरित्र
दोहा - चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
Dr.Rashmi Mishra
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पूर्वार्थ
"खाली हाथ"
Er. Sanjay Shrivastava
■ आज का संदेश
■ आज का संदेश
*Author प्रणय प्रभात*
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
shabina. Naaz
रात हुई गहरी
रात हुई गहरी
Kavita Chouhan
हमको
हमको
Divya Mishra
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
Ranjeet kumar patre
मैं और मेरा
मैं और मेरा
Pooja Singh
राष्ट्र निर्माता गुरु
राष्ट्र निर्माता गुरु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
असतो मा सद्गमय
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
DrLakshman Jha Parimal
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...