Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Dec 2023 · 1 min read

23/185.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/185.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 कोनो मर जाथे
22 22 2
कोनो मर जाथे।
कोनो तर जाथे।।
मिलथे सुघ्घर खुसी।
कोनो भर जाथे।।
बिरहन का काकर।
कोनो हर जाथे।।
दुनिया हे जिनगी।
कोनो कर जाथे।।
फुलथे खेदू कुछु ।
कोनो फर जाथे।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
11-12-2023 सोमवार

87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ Rãthí
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
रंगों का महापर्व होली
रंगों का महापर्व होली
Er. Sanjay Shrivastava
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
💐अज्ञात के प्रति-148💐
💐अज्ञात के प्रति-148💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मस्ती हो मौसम में तो,पिचकारी अच्छी लगती है (हिंदी गजल/गीतिका
मस्ती हो मौसम में तो,पिचकारी अच्छी लगती है (हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Sakshi Tripathi
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
gurudeenverma198
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
कवि रमेशराज
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
बीज
बीज
Dr.Priya Soni Khare
इक तेरा ही हक है।
इक तेरा ही हक है।
Taj Mohammad
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
घुट रहा है दम
घुट रहा है दम
Shekhar Chandra Mitra
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
मजदूरों के साथ
मजदूरों के साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
😊#लघु_व्यंग्य
😊#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक... छंद हंसगति
मुक्तक... छंद हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेम ईश्वर
प्रेम ईश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
Loading...