Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2023 · 1 min read

23/155.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/155.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 मोर संग तर जाबे🌷
212 1222
मोर संग तर जाबे ।
नाम अपन कर जाबे।।
हांसही इहां दुनिया।
धाम अपन कर जाबे ।।
बाढ़थे मया हा संगी ।
काम अपन कर जाबे।।
पाट खोचका डबरा ।
मान अपन कर जाबे ।।
महकही चमन खेदू।
सबर अपन कर जाबे।।
……..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
22-11-2023बुधवार

131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आंगन महक उठा
आंगन महक उठा
Harminder Kaur
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
हिमांशु Kulshrestha
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
Paras Nath Jha
कहे महावर हाथ की,
कहे महावर हाथ की,
sushil sarna
*वह अनाथ चिड़िया*
*वह अनाथ चिड़िया*
Mukta Rashmi
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
DrLakshman Jha Parimal
■ ब्रांच हर गांव, कस्बे, शहर में।
■ ब्रांच हर गांव, कस्बे, शहर में।
*प्रणय प्रभात*
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
Neeraj Agarwal
मनमीत
मनमीत
लक्ष्मी सिंह
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
Happy sunshine Soni
पीर
पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बसंत
बसंत
Lovi Mishra
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
gurudeenverma198
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
मुट्ठी में बन्द रेत की तरह
मुट्ठी में बन्द रेत की तरह
Dr. Kishan tandon kranti
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
*नल (बाल कविता)*
*नल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कामयाबी का जाम।
कामयाबी का जाम।
Rj Anand Prajapati
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
3044.*पूर्णिका*
3044.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
कहीं पे पहुँचने के लिए,
कहीं पे पहुँचने के लिए,
शेखर सिंह
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
Sonam Puneet Dubey
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
खुद पर ही
खुद पर ही
Dr fauzia Naseem shad
सफ़र जिंदगी का (कविता)
सफ़र जिंदगी का (कविता)
Indu Singh
किसी को उदास देखकर
किसी को उदास देखकर
Shekhar Chandra Mitra
मौत से बढकर अगर कुछ है तो वह जिलद भरी जिंदगी है ll
मौत से बढकर अगर कुछ है तो वह जिलद भरी जिंदगी है ll
Ranjeet kumar patre
Loading...