Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2023 · 1 min read

23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 अपन सरकार हवे🌷
212 22 2
अपन सरकार हवे।
लगय दरबार हवे।।
कर भरोसा संगी ।
आज आधार हवे।।
रोज पूरा होही ।
जौन दरकार हवे।।
देख ले सब मिलही।
लगय बाजार हवे।।
ले मजा तै खेदू।
मीठ कुसियार हवे।।
…………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
02-11-2023गुरुवार

206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
जीवन में उन सपनों का कोई महत्व नहीं,
जीवन में उन सपनों का कोई महत्व नहीं,
Shubham Pandey (S P)
"" *आओ बनें प्रज्ञावान* ""
सुनीलानंद महंत
शिव आराध्य राम
शिव आराध्य राम
Pratibha Pandey
मैं ख़ुद डॉक्टर हूं
मैं ख़ुद डॉक्टर हूं" - यमुना
Bindesh kumar jha
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
Dr MusafiR BaithA
बारिश की बूंदे
बारिश की बूंदे
Praveen Sain
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
अरमान
अरमान
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
Neelam Sharma
"प्रत्युत्तर"
*प्रणय प्रभात*
Miracles in life are done by those who had no other
Miracles in life are done by those who had no other "options
Nupur Pathak
तकलीफ ना होगी मरने मे
तकलीफ ना होगी मरने मे
Anil chobisa
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
Kshma Urmila
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
Vishal babu (vishu)
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
3067.*पूर्णिका*
3067.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
मुश्किलों से तो बहुत डर लिए अब ये भी करें,,,,
मुश्किलों से तो बहुत डर लिए अब ये भी करें,,,,
Shweta Soni
पिताजी हमारे
पिताजी हमारे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
काश जन चेतना भरे कुलांचें
काश जन चेतना भरे कुलांचें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अपने-अपने संस्कार
अपने-अपने संस्कार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शिव
शिव
Dr. Vaishali Verma
परेशां सोच से
परेशां सोच से
Dr fauzia Naseem shad
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
Mr.Aksharjeet
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
Loading...