Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

22)”शुभ नवरात्रि”

नौ दिन की भक्ति,माँ की शक्ति,मेहर करती,
शेर सवारी पर,माँ भवानी आकर,दर्शन देती🙏🏻

माँ दुर्गा स्वरूप,धरे नव नव रूप…
शैलपुत्री शांति का है प्रतीक।
ब्रह्मचारिणी है तप का वास।
चंद्रघंटा से होता दुखों का नाश।
कुशमाँड़ा ने हमें दी बुद्वि ख़ास।
सकंदमाता करती रोग निवारण।
कात्यायनी व्यक्तित्व का है उदाहरण।
कालरात्रि से होता संकटों का पारण।
महागौरी का मिलता आशीर्वाद।
सिद्वी दात्री सुख समृद्धि से भर्ती भंडार॥

पावन त्योहार नव दुर्गा का है निराला,
चारों ओर ख़ुशियों का होता उजाला।
हर मंदिर में,घर घर में,माँ की गूँज लहराती,
सब की झोली,ख़ुशियों से भर जाती।

नौ दिन की भक्ति,माँ की शक्ति,मेहर करती,
शेर सवारी पर, माँ भवानी आकर,दर्शन देती🙏🏻

गली मुहल्ले जगराते होते,माँ की जोत जगाते,
भजन माँ के गाते-बजाते,
जय जय कारों से,माँ के नारे लगाते।
कन्या पूजी जाती,नारियल भोग लगाते।
चुनरी लाल वं रोली से सजता ललाट,
हलवा,पूरी,चना खा कर पुण्य सब कमाते।

नौ दिन की भक्ति,माँ की शक्ति,मेहर करती,
शेर सवारी पर,माँ भवानी आकर,दर्शन देती।।
🙏🏻शुभ नवरात्रि🙏🏻

✍🏻स्व-रचित/मौलिक
सपना अरोरा।

Language: Hindi
1 Like · 100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sapna Arora
View all
You may also like:
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
Er. Sanjay Shrivastava
*तितली (बाल कविता)*
*तितली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
Ram Krishan Rastogi
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ऑनलाईन शॉपिंग।
ऑनलाईन शॉपिंग।
लक्ष्मी सिंह
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
Shashi kala vyas
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
DrLakshman Jha Parimal
मन की बुलंद
मन की बुलंद
Anamika Tiwari 'annpurna '
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
Anil chobisa
देख तुम्हें जीती थीं अँखियाँ....
देख तुम्हें जीती थीं अँखियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
** वर्षा ऋतु **
** वर्षा ऋतु **
surenderpal vaidya
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
Neelam Sharma
दिल तोड़ने की बाते करने करने वाले ही होते है लोग
दिल तोड़ने की बाते करने करने वाले ही होते है लोग
shabina. Naaz
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जीवन गति
जीवन गति
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
शेखर सिंह
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
*Author प्रणय प्रभात*
जय हनुमान
जय हनुमान
Santosh Shrivastava
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
Shweta Soni
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
सब्र का फल
सब्र का फल
Bodhisatva kastooriya
*शिवरात्रि*
*शिवरात्रि*
Dr. Priya Gupta
ज़िंदगी ख़त्म थोड़ी
ज़िंदगी ख़त्म थोड़ी
Dr fauzia Naseem shad
"मैं मजदूर हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
2574.पूर्णिका
2574.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
manjula chauhan
Loading...