Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2017 · 1 min read

21वीं सदी का इन्सान

गली मे आज
फिर लगी है भीड़
कत्ल हुआ है इन्सानियत का
देखती रह गयी है भीड़
खोफ की पहचान बन गया है हैवान
लूट कर ले गया है किसी का चैन
लाचार बेबस हो गया है इन्सान
भीड़ मे अब अकेला खड़ा है इन्सान
जानवर से भी कायर
नजर आने लगा है इन्सान
बधिर बेजुबान हो चुका है इन्सान
अट्टहास कर रहा है हैवान
बारी बारी से बलि देने का
इंतजार कर रहा है
इक्कीसवीं सदी का इन्सान ।।

राज विग

Language: Hindi
271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*
*"रक्षाबन्धन"* *"काँच की चूड़ियाँ"*
Radhakishan R. Mundhra
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
Poonam Matia
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
धरी नहीं है धरा
धरी नहीं है धरा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
पूर्वार्थ
विचार मंच भाग -7
विचार मंच भाग -7
डॉ० रोहित कौशिक
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
Er. Sanjay Shrivastava
*असर*
*असर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम कौतुक-379💐
💐प्रेम कौतुक-379💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कूड़े के ढेर में
कूड़े के ढेर में
Dr fauzia Naseem shad
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
Keshav kishor Kumar
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
■ मोहल्ला ज़िंदा लोगों से बनता है। बस्ती तो मुर्दों की भी होत
■ मोहल्ला ज़िंदा लोगों से बनता है। बस्ती तो मुर्दों की भी होत
*Author प्रणय प्रभात*
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
Manoj Mahato
*दुर्भाग्य से बौनों ने पाया, उच्चतम-पदभार है  (हिंदी गजल/गीत
*दुर्भाग्य से बौनों ने पाया, उच्चतम-पदभार है (हिंदी गजल/गीत
Ravi Prakash
नाहक करे मलाल....
नाहक करे मलाल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
एक कदम सफलता की ओर...
एक कदम सफलता की ओर...
Manoj Kushwaha PS
बेबाक
बेबाक
Satish Srijan
खाने पुराने
खाने पुराने
Sanjay ' शून्य'
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
ruby kumari
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
आर.एस. 'प्रीतम'
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
कल भी वही समस्या थी ,
कल भी वही समस्या थी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
Loading...