Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

(20) सजर #

मैं सजर हूँ ।

मेरी भाषा मौन है ।

किन्तु इतना ही नहीं
मेरी आकृति भी तो है भाषा मेरी
जो दिखाती है, बताती है कहानी
युगों युगों से , गात पर मेरे पड़े ,
क्रूर लहरों के निर्दयी आघातों की ।
इन्हीं लहरों ने तराशा है मुझे
इन्हीं ने चिकनाहटें दीं,और गोलाकृति मुझे |

किन्तु आँसू एक जो अंतस में मेरे है छिपा
बन गया जीवाश्म जो, देखोगे हीरे सा सजा
दे रहा आकार मेरे बाह्य-अंतस रूप को
है सहायक वो भी रचना में मेरे भूगोल की
और मेरी भौतिकी उसके ही बल पर है बनी ।

एक दिन जब चूरा-चूरा कर मुझे खंडित करोगे
पाके इस हीरे को , खुशियों से भरोगे
गले के इस हार में तुम पेंडुलम सा सजा लोगे |

किन्तु देखो,
चोट जब करना मेरे दुखते ह्रदय पर
सधे हाथों से ही करना
सावधानी बरत लेना
टूट न जाए कहीं, मन में छिपा हीरा हमारा
टूट न जाए कहीं, मन में छिपा हीरा हमारा |

स्वरचित एवं मौलिक
रचयिता : (सत्य ) किशोर निगम

# सजर= (ढेलेनुमा पत्थर, जिसके अन्दर जीवाश्म,एक नग जैसा बन जाता है )

Language: Hindi
292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kishore Nigam
View all
You may also like:
कितने आसान थे सम्झने में
कितने आसान थे सम्झने में
Dr fauzia Naseem shad
पितर
पितर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
यायावर
यायावर
Satish Srijan
इस कदर आज के ज़माने में बढ़ गई है ये महगाई।
इस कदर आज के ज़माने में बढ़ गई है ये महगाई।
शेखर सिंह
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
अबके रंग लगाना है
अबके रंग लगाना है
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
धर्म और सिध्दांत
धर्म और सिध्दांत
Santosh Shrivastava
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
विचार और रस [ दो ]
विचार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
Rj Anand Prajapati
*देह का दबाव*
*देह का दबाव*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"ऐ मितवा"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
FORGIVE US (Lamentations of an ardent lover of nature over the pitiable plight of “Saranda” Forest.)
FORGIVE US (Lamentations of an ardent lover of nature over the pitiable plight of “Saranda” Forest.)
Awadhesh Kumar Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सत्यम शिवम सुंदरम🙏
सत्यम शिवम सुंदरम🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
लक्ष्मी सिंह
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
Kanchan Khanna
अपना घर
अपना घर
ओंकार मिश्र
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
* रेत समंदर के...! *
* रेत समंदर के...! *
VEDANTA PATEL
सूखी टहनियों को सजा कर
सूखी टहनियों को सजा कर
Harminder Kaur
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कौन हूँ मैं ?
कौन हूँ मैं ?
पूनम झा 'प्रथमा'
*कामदेव को जीता तुमने, शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
*कामदेव को जीता तुमने, शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
फितरत
फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
Bhupendra Rawat
Loading...