Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

18. कन्नौज

मैं रोम-रोम तेरी
परछाई समेटे हूँ जी रहा,
तू आसमां का एक सितारा
और मैं जुगनू तेरा।

मेरे सीने की हर धड़कन
तेरा ही नाम लेती है,
तू है अशकों का समंदर
और मैं हूँ दायरा तेरा।

मेरी तनहाई में भी
जलसा तेरा रोज़ होता है,
मेरी गुमनामी का चर्चा है
तू और मैं चेहरा तेरा।

तेरी खुशबू की आदत
लगी है घुमंतू को ऐसी,
तू है मेरा इत्र गुलाब का
और मैं हूँ कन्नौज तेरा।

~राजीव दत्ता ‘घुमंतू’

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रोजी रोटी
रोजी रोटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
बरगद पीपल नीम तरु
बरगद पीपल नीम तरु
लक्ष्मी सिंह
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
इतना गुरुर न किया कर
इतना गुरुर न किया कर
Keshav kishor Kumar
आज  मेरा कल तेरा है
आज मेरा कल तेरा है
Harminder Kaur
ख़यालों के परिंदे
ख़यालों के परिंदे
Anis Shah
"रामगढ़ की रानी अवंतीबाई लोधी"
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
६४बां बसंत
६४बां बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
..........?
..........?
शेखर सिंह
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपनों का दीद है।
अपनों का दीद है।
Satish Srijan
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
manjula chauhan
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
Karuna Goswami
"गूंगी ग़ज़ल" के
*Author प्रणय प्रभात*
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
गुस्सा दिलाकर ,
गुस्सा दिलाकर ,
Umender kumar
देश की हिन्दी
देश की हिन्दी
surenderpal vaidya
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
जो मिला ही नहीं
जो मिला ही नहीं
Dr. Rajeev Jain
"दोस्ती क्या है?"
Pushpraj Anant
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...