Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

15–🌸जानेवाले 🌸

.15– कविता
💐 जाने वाले…. 🙏💐
… 🔸स्मृति शेष 🔸…
== =========
जाना था मैंने, कि एक दिन यूँ जाना होगा
पर किसे, कहाँ, कब, कैसे नहीं जाना था.
ऐसे चले जाओगे इतनी दूर , नहीं माना था सोचते ही मन बार बार घबराता था
एक अजीब सा शून्य घेर लेता है ..
विचार, सब खो गये बिगड़े हालातों में.
ना सोचना है ना जानना है अब और
बाकी नहीं रहा कुछ सिवाय पछतावे के
क्या सोचना ऐसा होता -तो यूँ होता
वैसा होता तो और क्या कर पाते ?
फिर, वो कर पाते तो शायद ये नहीं होता.
इस होने, ना होने से अब क्या होना है?
वो चले गए दूर,ना रोक सका कोई
क्या रोक सका कोई, किसी के जाने को ?
सांसें थम जाती है जीते जी मरने जैसी
ना हरकत है कोई, ना भाव चेहरे पर
इस दुनिया से दूर कोई एक और ठौर होगा.
मेरी आँखों से दूर लेकिन मेरे मन में होगा.
छूट गयीं सब आशा -विश्वास उसके जाने से
रह गया है,सिर्फ मृदु स्पर्श तेरा मेरे हाथ
जाओ !अब तुम को जहाँ भी जाना है
साथ मेरी यादों में भी लेकिन सदा रहना है.
ना छूट सकेगी कभी नातों की डोर.
आना होगा तुम्हें,मेरे लिए हर बार.
बार बार।
========================

.. महिमा शुक्ला
इंदौर..

Language: Hindi
2 Likes · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
*चंद्रयान (बाल कविता)*
*चंद्रयान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
प्रीत ऐसी जुड़ी की
प्रीत ऐसी जुड़ी की
Seema gupta,Alwar
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नुकसान हो या मुनाफा हो
नुकसान हो या मुनाफा हो
Manoj Mahato
हाइकु: गौ बचाओं.!
हाइकु: गौ बचाओं.!
Prabhudayal Raniwal
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
"वक्त के गर्त से"
Dr. Kishan tandon kranti
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
* मैं बिटिया हूँ *
* मैं बिटिया हूँ *
Mukta Rashmi
राम कृष्ण हरि
राम कृष्ण हरि
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
नन्हे-मुन्ने हाथों में, कागज की नाव ही बचपन था ।
नन्हे-मुन्ने हाथों में, कागज की नाव ही बचपन था ।
Rituraj shivem verma
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
Vedha Singh
3325.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3325.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
निर्णय
निर्णय
Dr fauzia Naseem shad
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
तुमसे एक पुराना रिश्ता सा लगता है मेरा,
तुमसे एक पुराना रिश्ता सा लगता है मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
उफ़ ये अदा
उफ़ ये अदा
Surinder blackpen
दुनिया में कहीं नहीं है मेरे जैसा वतन
दुनिया में कहीं नहीं है मेरे जैसा वतन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ताजन हजार
ताजन हजार
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दीवानगी
दीवानगी
Shyam Sundar Subramanian
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
Shreedhar
"लिखना कुछ जोखिम का काम भी है और सिर्फ ईमानदारी अपने आप में
Dr MusafiR BaithA
Loading...