Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

(15) ” वित्तं शरणं ” भज ले भैया !

मत उलझो, मत सोचो भैया
तुमसे न हो पाएगा भैया
तुम्हरे ढिंग “वित्तं” है भैया ?
जो जनता को मोह ले भैया ?
पल्टीमारी सीखी भैया ?
पेट समुन्दर तुम्हरो भैया ?
सुवर बाल का आँख में भैया ?
सांठ गाँठ के हुनर है भैया?
नस नस झूंठ भरी है भैया ?
लम्बा तिलक , मधूरी बानी
तुम्हारे पास न दिखती भैया
छोडो, कछु न सोचो भैया
तुम्हरे पास न “वित्तं” भैया
तुमसे न हो पइहै भैया ||
“ऊँचो वंश” कहाबो चाहो
टेंट में राखो “वित्तं ” भैया
पंडित ज्ञानी बनबो चाहो
टेंट में राखो “वित्तं ” भैया
गुनी पारखी बनबो चाहो
टेंट में राखो “वित्तं ” भैया
भाषण कला सीखिबो चाहो
टेंट में राखो “वित्तं ” भैया
सिलेब्रिटी जो बनबो चाहो
टेंट में राखो “वित्तं ” भैया
कनक कामिनी रखिबो चाहो
टेंट में राखो “वित्तं ” भैया
दुनिया में जितने भी गुन हैं
जितने भी आनंद है भैया
मनी मनी से सब मिल जाएँ
कछू न दुर्लभ होवें भैया
मगर बिना वित्तं के कउनो
मनी नाहि मिल पावे भैया
ये वित्तं तो दैव ही देवें
जन्मजात ये गुन है भैया
रूखी सूखी प्रेम से खाके
ठंडा पानी पी लो भैया
हमरे तुम्हारे के बस नाही
ओढ़ के चादर सो जा भैया
तऊ न मन को दुःख जावे तो
मन्त्र महामणि जप ले भैया
“वित्तं शरणं , वित्तं शरणं
वित्तं शरणं ” भज ले भैया ||

स्वरचित एवं मौलिक
रचयिता : (सत्य ) किशोर निगम
प्रेरणा / भावानुवाद : —
“यस्यास्ति वित्तं स नरः कुलीनः
स पण्डित: स श्रुतवान् गुणज्ञः ।
स एव वक्ता स च दर्शनीयः
सर्वे गुणाः कांचनमाश्रययन्ति ॥”

Language: Hindi
188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kishore Nigam
View all
You may also like:
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*शाही दरवाजों की उपयोगिता (हास्य व्यंग्य)*
*शाही दरवाजों की उपयोगिता (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
सौंदर्य मां वसुधा की
सौंदर्य मां वसुधा की
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तीर'गी  तू  बता  रौशनी  कौन है ।
तीर'गी तू बता रौशनी कौन है ।
Neelam Sharma
■ देसी ग़ज़ल...
■ देसी ग़ज़ल...
*Author प्रणय प्रभात*
शबे- फित्ना
शबे- फित्ना
मनोज कुमार
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
कवि रमेशराज
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
फैसला
फैसला
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
आखिरी उम्मीद
आखिरी उम्मीद
Surya Barman
तन पर तन के रंग का,
तन पर तन के रंग का,
sushil sarna
!............!
!............!
शेखर सिंह
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
Keshav kishor Kumar
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
Satish Srijan
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
बचपन
बचपन
नन्दलाल सुथार "राही"
'वर्दी की साख'
'वर्दी की साख'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
हमारी तुम्हारी मुलाकात
हमारी तुम्हारी मुलाकात
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
लक्ष्मी
लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
मेरे जब से सवाल कम हैं
मेरे जब से सवाल कम हैं
Dr. Mohit Gupta
2846.*पूर्णिका*
2846.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किस्मत
किस्मत
Vandna thakur
फितरत
फितरत
umesh mehra
देख तो ऋतुराज
देख तो ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...