Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

14) “जीवन में योग”

ध्यान एवम् मोक्ष का रास्ता दिखाता है योग,
कुशलता से किए गए कर्मों का दाता है योग।

आत्मा परमात्मा का मिलन है योग,
व्यापक हो जाता इसका अर्थ,
मन के विकसित होने को बताता जब योग।

प्राचीन काल से आधुनिक काल में है साथ,
धरोहर है यह हमारी, नहीं उठता कोई सवाल।

शारीरिक एवम् मानसिक स्वास्थ्य दर्शाता है योग,
शिव की आध्यात्मिक कला का ज्ञान,
भारतीय संस्कृति के महत्व को बताता है योग।

होगा समय का सदुपयोग ग़र जीवन में योग,
मन तन तन्दोरुस्त होगा,दूर होंगे सब रोग।

योग शिविर लगाये जाते,
यौगिक आयोजन करवाये जाते,
विश्व भर में, योग दिवस मनाए जाते।।

“योग है जीवन-जीवन में योग”

✍🏻मौलिक एवम् स्वरचित
सपना अरोरा ।

Language: Hindi
76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sapna Arora
View all
You may also like:
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
मन में रख विश्वास,
मन में रख विश्वास,
Anant Yadav
हँसी
हँसी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
देश की हालात
देश की हालात
Dr. Man Mohan Krishna
संघर्ष और निर्माण
संघर्ष और निर्माण
नेताम आर सी
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मोहब्बतों की डोर से बँधे हैं
मोहब्बतों की डोर से बँधे हैं
Ritu Asooja
"जोकर"
Dr. Kishan tandon kranti
नन्ही भिखारन!
नन्ही भिखारन!
कविता झा ‘गीत’
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
sushil sarna
3153.*पूर्णिका*
3153.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गंणतंत्रदिवस
गंणतंत्रदिवस
Bodhisatva kastooriya
खानदानी चाहत में राहत🌷
खानदानी चाहत में राहत🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हिन्दी दोहा लाड़ली
हिन्दी दोहा लाड़ली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रणय गीत --
प्रणय गीत --
Neelam Sharma
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
चन्द्रयान..…......... चन्द्रमा पर तिरंगा
चन्द्रयान..…......... चन्द्रमा पर तिरंगा
Neeraj Agarwal
खुद की अगर खुद से
खुद की अगर खुद से
Dr fauzia Naseem shad
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
VINOD CHAUHAN
कविता
कविता
Rambali Mishra
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
बेपरवाह
बेपरवाह
Omee Bhargava
*जटायु (कुंडलिया)*
*जटायु (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
तितली संग बंधा मन का डोर
तितली संग बंधा मन का डोर
goutam shaw
फागुन
फागुन
पंकज कुमार कर्ण
Loading...