Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 21, 2016 · 1 min read

हमें वो देने ख़ुशी बेहिसाब आएगा

हमें वो देने ख़ुशी बेहिसाब आएगा
शिकायतों की मगर ले किताब आएगा

हमारी नज़रों से गर आसमान में देखो
तुम्हें हमारा नज़र माहताब आएगा

न जाम की है जरुरत न साकी की हमको
वो नैन से ही पिलाने शराब आएगा

भले बिछाए यहाँ राह में कोई काँटे
हुनर से अपने वो हो कामयाब आएगा

असर भी प्यार का ये देख अर्चना लेना
उगाने भोर नई आफताब आएगा

डॉ अर्चना गुप्ता

3 Comments · 390 Views
You may also like:
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
समय ।
Kanchan sarda Malu
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
पंचशील गीत
Buddha Prakash
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
If we could be together again...
Abhineet Mittal
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
Loading...