Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

THOUGHT

Success in life is always achieved by making small efforts because every successful person has a story full of struggle and the person who struggles is sure to be successful one day. so never stop trying small efforts.
-JYOTI KHARI

Language: English
1 Like · 142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बुरा समय था
बुरा समय था
Swami Ganganiya
"परिवार क्या है"
Dr. Kishan tandon kranti
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
💐प्रेम कौतुक-199💐
💐प्रेम कौतुक-199💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कभी कभी ये पलकें भी
कभी कभी ये पलकें भी
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अलार्म
अलार्म
डॉ प्रवीण ठाकुर
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan Mundhra
तसल्ली मुझे जीने की,
तसल्ली मुझे जीने की,
Vishal babu (vishu)
कभी
कभी
Ranjana Verma
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
परवरिश करने वाले को एहसास है ,
परवरिश करने वाले को एहसास है ,
Buddha Prakash
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Your heart is a Queen who runs by gesture of your mindset !
Your heart is a Queen who runs by gesture of your mindset !
Nupur Pathak
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
ये ज़िंदगी क्या सँवर रही….
ये ज़िंदगी क्या सँवर रही….
Rekha Drolia
एक दिन में इस कदर इस दुनिया में छा जाऊंगा,
एक दिन में इस कदर इस दुनिया में छा जाऊंगा,
कवि दीपक बवेजा
■ दोहा / प्रभात चिंतन
■ दोहा / प्रभात चिंतन
*Author प्रणय प्रभात*
अच्छा लगने लगा है !!
अच्छा लगने लगा है !!
गुप्तरत्न
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
रिश्ता ऐसा हो,
रिश्ता ऐसा हो,
लक्ष्मी सिंह
हवाएँ
हवाएँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
बिगड़े रईस
बिगड़े रईस
Satish Srijan
दलित समुदाय।
दलित समुदाय।
Vijay kannauje
मैं असफल और नाकाम रहा!
मैं असफल और नाकाम रहा!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
शृंगार
शृंगार
Kamal Deependra Singh
*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*
*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Winning
Winning
Dr. Rajiv
Loading...