Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

सांस लीहल हो गइल मुश्किल बड़ी हम का करीं

गजल

लोभ में आन्हर भइल, हर आदमी हम का करीं।
ना दिखाई दे रहल, आपन कमी हम का करीं।

नासमझ के भीड़ भारी, सत्य से सब दूर बा,
जाति मजहब में उलझ के, लड़ मरी हम का करीं।

अर्थ सर्जन में पिसा के, रह गइल सब लोग अब,
सांँस लीहल हो गइल, मुश्किल बड़ी हम का करीं।

भूख दउलत के बड़ी बाउर हवे ना मिट सके,
खत्म ना होखत हवे ई, तिश्नगी हम का करीं।

धर्म के धंधा बना लिहले सभे बा स्वार्थ में,
आदमी सब बनि गइल बाड़न, नबी हम का करीं।

‘सूर्य’ जे बा गैर उनसे, आस ना कवनो हवे,
जे रहल दिल में, बनल बा अजनबी हम का करीं।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

263 Views
You may also like:
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
दहेज़
आकाश महेशपुरी
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
पिता
Keshi Gupta
दया करो भगवान
Buddha Prakash
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
✍️दूरियाँ वो भी सहता है ✍️
Vaishnavi Gupta
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
समय ।
Kanchan sarda Malu
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
पल
sangeeta beniwal
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...