Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jan 30, 2022 · 1 min read

सरसी छंद

?
!!श्रीं !!
सुप्रभात ! जय श्री राधेकृष्ण !
शुभ हो आज का दिन !
?
सरसी छंद- मात्रिक ! 27 मात्रा,
16-11 पर यति, चरणांत गाल
************************
नमन शारदा के चरणों में , कृपा कीजिये मात ।
देना सबको ज्ञान हमें माँ, सध जायें स्वर सात ।।
छंदों की लय उर बस जाये, गूँजें मन में गीत ।
माता महके सदा काव्य में, चंदन जैसी प्रीत ।।
*
कोमल कलियाँ फूल बनें तो, उड़ता है मकरंद ।
ऐसे ही मन की डाली पर , महका करते छंद ।।
उर में अठखेली करते जब, लहरों जैसे भाव ।
कविता करती है किलोल तब, ज्यों नदिया में नाव !।
*
राधे…राधे…!
?
महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा !
***
???

324 Views
You may also like:
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
पंचशील गीत
Buddha Prakash
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
संत की महिमा
Buddha Prakash
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
पिता
लक्ष्मी सिंह
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
आओ तुम
sangeeta beniwal
Loading...