Aug 7, 2016 · 1 min read

मित्रता

सभी मित्रों को “मित्रता दिवस” की
शुभकामनाएं———

मित्रता एक अक्षर नहीं…
शब्द नही…पंक्ति नहीं…
गद्य नहीं…कोई पद्य नहीं…
मित्रता तो
पवित्र “चारु” है…”आराधना” है
“अर्चना” है…”आरती” है
भावना है…एहसास है 
ठंडी शीतल पवन का एक झोंका है…!
एक-दूजे का
सम्मान है…विशवास है…
दुःख में राहत है…
कठिनाई में पथ-प्रदर्शक है…
मनुष्य के रूप में
दो तत्वों से बना फरिश्ता है…
एक सच्चाई तो दूसरा कोमलता है…
अहं, राग, द्वेष, ईर्ष्या, का हवन है…
प्रेम, सौहार्द, कर्म, ज्ञान, से निर्मित सृष्टि रूपी भवन है…

सुनील पुष्करणा “कान्त”

267 Views
You may also like:
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
लगा हूँ...
Sandeep Albela
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"साहिल"
Dr. Alpa H.
The Magical Darkness
Manisha Manjari
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H.
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
सिपाही
Buddha Prakash
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'सती'
Godambari Negi
प्रेम
Rashmi Sanjay
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
बुआ आई
राजेश 'ललित'
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...