Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

माई

माई तेरा आँचल धूप में छांव जैसा
माई तेरा दामन भंवर मे नांव जैसा
माई मुझे चोट लगती है ऐसे न कहो
माई तेरा गुस्सा प्यारा-सा घाव जैसा

माई कुछ आवाजें मुझे ढुंढती है
माई निशा की रुदन, मुझे टटोलती है
सुबह होने तक, माई तुम्हारे जगने तक
मुझे अक्सर एक पीड़ा,रात भर रहती है

कोई दिन निकल जाये कि तुम ठहर जाओ
माई चैन ही छीन जाए गर तुम ठहर जाओ
ये फूरसत की बातें और ये सुकुन के पल
माई सब बिखर जाये कि जब तुम ठहर जाओ

माई‌ कह दिया होता जो तसब्बुर भी थे
माई कह तो दिया होता पर मजबुर भी थे
ये बे-बाक सी बातें, तुम्हारे होने से ही
माई मिट गया होता ,अगर माहुर भी थे

5 Likes · 26 Comments · 377 Views
You may also like:
पिता
Neha Sharma
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💔💔...broken
Palak Shreya
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
महँगाई
आकाश महेशपुरी
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
दहेज़
आकाश महेशपुरी
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
Loading...