#23 Trending Author
Oct 1, 2021 · 1 min read

मनुक्ख बनब कोना?

मनुक्ख बनब कोना?

छीः छीः धूर छीः आ छीः
मनुक्ख भ’ मनुक्ख सँ घृणा करैत छी
ओही परमेश्वर के बनाउल
माटिक मूरत हमहूँ छी अहूँ छी।

केकरो देह मे भिरला सँ
कियो छुबा ने जाइत अछि
आबो संकीर्ण सोच बदलू
ई गप अहाँ बुझहब कोना?

अहिं कहू के ब्राह्मण के सोल्हकन?
के मैथिल के सभ अमैथिल
सभ त’ मिथिलाक मैथिल छी
आबो सोच बदलू मनुक्ख बनब कोना?

अपना स्वार्थ दुआरे अहाँ
जाति-पाति के फेरी लगबैत छी
मुदा ई गप कहिया बुझहब
सभ त’ माँ मिथिले के संतान छी।

पाग दोपटा मोर-मुकुट
सभटा त’ एक्के रंग रूप छी
मिथिलाक लोक मैथिल संस्कार
एसकर केकरो बपौती नहि छी।

एकटा गप अहाँ करु धियान
सभ गोटे मिथिलाक संतान
जाति-पातिक रोग दूर भगाउ
सभ मिली कए लियअ गारा मिलान।

अपने मे झगरा-झांटी बखरा-बांटी
एहि सँ किछु भेटल नहि ने?
सोचब के फर्क अछि नहि कोनो जादू टोना
अहिं कहू आब मनुक्ख बनब कोना?

बेमतलब के गप पर यौ मैथिल
अहाँ एक दोसरा स’ झगरा करैत छी
माए जानकी दुखित भए कानि रहल छथि
ई गप किएक नहि अहाँ बुझहैत छी?

सामाजिक-आर्थिक विकास लेल काज करु
मिथिलाक माटि-पानि उन्नति करत कोना
केकरो स’ कोनो भेदभाव नहि करु
सप्पत खाउ अहाँ मनुक्ख बनब कोना?

कवि© किशन कारीगर
(©काॅपीराईट)

2 Likes · 3 Comments · 289 Views
You may also like:
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
प्रेमिका.. मेरी प्रेयसी....
Sapna K S
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
""वक्त ""
Ray's Gupta
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
संताप
ओनिका सेतिया 'अनु '
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H.
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द।
Taj Mohammad
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
अथर्व को जन्म दिन की शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...