Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

जियरवा में भरल नेहिया, कहऽ कइसे दिखाई हम।

जियरवा में भरल नेहिया, कहऽ कइसे दिखाई हम।
बनल बाड़ऽ तू पाथर के, कहऽ कइसे सुनाई हम।

ना जाने लऽ ना माने लऽ, इश्क़ ई चीज का होला,
ई नेहिया नाम मिटला के कहऽ कइसे बताई हम।

भरम तनिका न हमरा बा, सजन तोहरे के मानिला,
भरम मे़ डाल तू दिहल, कहऽ कइसे मिटाई हम।

वफ़ा कइनी सुन सजना, वफ़ा तोहसे न हम पइनी,
ई बतिया बेवफ़ाई के, कहऽ कइसे भुलाई हम।

नज़र भर जो सचिन देखऽ, त हियरा ई जुड़ा जाई।
रहेल दूर अखियां से, कहऽ कइसे जुड़ाई हम।

✍️पं.संजीव शुक्ल ‘सचिन’

4 Likes · 2 Comments · 709 Views
You may also like:
देश के नौजवानों
Anamika Singh
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Kanchan Khanna
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
बुध्द गीत
Buddha Prakash
पिता
Meenakshi Nagar
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
पिता
Manisha Manjari
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
Loading...