Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

Pain changes people

Pain changes people
Some becomes RUDE
And…
Some; silent

106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-301💐
💐प्रेम कौतुक-301💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
” SALUTE TO EVERYONE ON ARMY DAY “
” SALUTE TO EVERYONE ON ARMY DAY “
DrLakshman Jha Parimal
आज की तारीख़ में
आज की तारीख़ में
*Author प्रणय प्रभात*
तहरीर
तहरीर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लड्डू गोपाल की पीड़ा
लड्डू गोपाल की पीड़ा
Satish Srijan
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"तुम्हारी हंसी" (Your Smile)
Sidhartha Mishra
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
Surinder blackpen
आंखों देखा सच
आंखों देखा सच
Shekhar Chandra Mitra
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
Ram Krishan Rastogi
कहानी ( एक प्यार ऐसा भी )
कहानी ( एक प्यार ऐसा भी )
श्याम सिंह बिष्ट
सच की कसौटी
सच की कसौटी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
केवल आनंद की अनुभूति ही जीवन का रहस्य नहीं है,बल्कि अनुभवों
केवल आनंद की अनुभूति ही जीवन का रहस्य नहीं है,बल्कि अनुभवों
Aarti Ayachit
Pyar ke chappu se , jindagi ka naiya par lagane chale the ha
Pyar ke chappu se , jindagi ka naiya par lagane chale the ha
Sakshi Tripathi
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
सिया राम विरह वेदना
सिया राम विरह वेदना
Er.Navaneet R Shandily
अजब दुनियां के खेले हैं, ना तन्हा हैं ना मेले हैं।
अजब दुनियां के खेले हैं, ना तन्हा हैं ना मेले हैं।
umesh mehra
किसा गौतमी बुद्ध अर्हन्त्
किसा गौतमी बुद्ध अर्हन्त्
Buddha Prakash
सुप्रभातं
सुप्रभातं
Dr Archana Gupta
ओ चाँद गगन के....
ओ चाँद गगन के....
डॉ.सीमा अग्रवाल
नई दिल्ली
नई दिल्ली
Dr. Girish Chandra Agarwal
तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
Arvind trivedi
"यह कैसा दौर?"
Dr. Kishan tandon kranti
पर्यावरण
पर्यावरण
डॉ प्रवीण ठाकुर
*बड़े प्रश्न लें हाथ, सोच मत रखिए छोटी (कुंडलिया)*
*बड़े प्रश्न लें हाथ, सोच मत रखिए छोटी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपनी नज़र में खुद
अपनी नज़र में खुद
Dr fauzia Naseem shad
Loading...