Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

चोर चोर मउसेरा भाई

धीरे धीरे सबका के देखनी
अब केकरा के देखि धधाईं
केहू आई केहू जाई
चोर चोर मउसेरा भाई

-दुर्गेश दुर्लभ
गोपालगंज, बिहार

2 Likes · 238 Views
You may also like:
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*"पिता"*
Shashi kala vyas
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पिता
Buddha Prakash
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
पिता
Ram Krishan Rastogi
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...