Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 27, 2016 · 1 min read

गजल

आ गये जब पास मेरे वो हिचकिचाये भी नहीं
दर्द दास्तां को सुना तब वो लजाए भी नहीं

प्यार में पागल हुए जो हम न शरमाए कभी
भूल फिर हमसे हुई तब बडबडाए भी नहीं

रो रहा दिल यह कभी ठुकरा दिया तूने हमें
छोड़ तुझको दिल पे कोई और छाए भी नहीं

उस खुदा को आप में हमने हमेशा पा लिया
इसलिये तो सोच के हम आजमाए भी नहीं

छांव बन के मैं चलूँ , रग में बसू तेरी अभी
रात मेरे साथ रह क्यों जगमगाए भी नहीं

ताप दिल का दूर होता , बाँसुरी बन बजते तुम
मन सुरों की सरगमें बन , गुनगुनाए भी नहीं

गीत तेरे प्रेम के गाती रही हूँ आज भी
खत लिखे चाहत भरे मैनें जलाए भी नहीं

67 Likes · 292 Views
You may also like:
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
बुआ आई
राजेश 'ललित'
अनामिका के विचार
Anamika Singh
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Satpallm1978 Chauhan
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...