Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

न जाने कब तेरे…

न जाने कब तेरे जलवों में रवानी आयी,
न जाने कब तेरी सैलाब पर जवानी आयी,

हमें तो होश ही कब था तेरे होंठों से पीने का बाद,
न जाने कब हमारी सुधियों में वो कहानी आयी|

कभी तो शाहजहां – मुमताज के किस्से सुना करते,
न जाने कब मुझे भी याद वो राजा की रानी आयी,

कभी सबकुछ लुटा डाला था हमने इश्क में तेरे,
न जाने कब लुटा दी आज वो निशानी आयी|

न वो सदियां पुरानी हैं न वो यौवन पुराना है,
न जाने कब क्यों धोखे से वो बात पुरानी आयी |

– पुष्पराज यादव
09760557187

193 Views
You may also like:
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
पिता
Aruna Dogra Sharma
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...